एडवांस्ड सर्च

ओशो से प्रभावित होकर संन्यासी बने थे विनोद खन्ना, मुश्किल से संभला था परिवार

विनोद खन्ना के जन्मदिन के मौके पर बता रहे हैं सन्यासी बनने के बाद कैसी हो गई थी एक्टर की जिंदगी. साथ ही सन्यास छोड़ने के बाद से उनके जीवन में कैसे बदलाव हुए.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 06 October 2019
ओशो से प्रभावित होकर संन्यासी बने थे विनोद खन्ना, मुश्किल से संभला था परिवार विनोद खन्ना

आमतौर पर ऐसा माना जाता है कि अध्यात्म मानव समाज की एक ऐसी जीवन शैली है जिसे हर कोई फॉलो कर सकता है. चाहें वो अमीर हो या फिर गरीब. मगर आध्यात्मिक गुरु ओशो इस बात से इत्तेफाक नहीं रखते थे. उनका मानना था कि सिर्फ अमीर लोग ही आध्यात्म की अनुभूति कर सकते हैं और एक गरीब की प्राथमिकताएं उसे ऐसा करने से रोकती हैं. यही कारण है कि ओशो के फॉलोअर्स में इलीट क्लास के लोग काफी ज्यादा हुए. इस फहरिश्त में बॉलीवुड के भी कुछ सितारे शामिल थे. इनमें से जो नाम सबसे चर्चित बना वो था विनोद खन्ना. विनोद का जन्म 6 अक्टूबर, 1946 को हुआ था. उनके जन्मदिन के मौके पर बता रहे हैं सन्यासी बनने के बाद कैसी हो गई थी एक्टर की जिंदगी.  

खबरों की मानें तो विनोद खन्ना पुणे के ओशो आश्रम में कई सालों तक रहे थे. वे ओशो के साथ अमेरिका भी गए और उनकी सेवा में लगे रहते थे. आपको जानकर हैरानी होगी कि वे ओशो के पर्सनल गार्डन के माली भी बने. वहां उन्होंने उनके वाशरूम और बर्तन तक साफ किए थे.

कब लिया सन्यास?

बताया जाता है कि विनोद खन्ना, आचार्य रजनीश ओशो के साथ अमेरिका के ओरेगान में कम्यून स्थापित करने के लिए गए थे. वहां ओशो ने उन्हें अपने पर्सनल गार्डन की देखभाल के लिए बतौर माली रखा था. वहां वे 4-5 सालों तक रहे थे. एक इंटरव्यू में खुद विनोद खन्ना ने कहा था कि अमेरिका के ओशो आश्रम में वे कई साल तक माली रहे और इस दौरान उन्होंने आश्रम में टॉयलेट से लेकर थाली तक साफ की है. रिपोर्ट्स की मानें तो आश्रम में उनका नामकरण विनोद भारती के रूप में हुआ था. लेकिन जिस मन की शांति के लिए वो अध्यात्म की शरण में गए, वो उन्हें हासिल नहीं हुई. उनके जाने के बाद मुंबई में उसका परिवार बिखर गया था.

विनोद खन्ना ने खुद कहा था कि संन्यास का वो फैसला बिल्कुल मेरा अपना था. इसलिए वो फैसला मेरे परिवार को बुरा लगा. मुझे भी दोनों बच्चों की परवरिश की चिंता होती थी, मगर मैं मन से मजबूर था. संन्यास का फैसला विनोद खन्ना की मजबूरी थी या मन की कोई उलझन, ये तो पता नहीं लेकिन संन्यास के साथ विनोद खन्ना का करियर तो वहीं का वहीं ठप हो गया. परिवार भी ऐसे बिखरा कि फिर कभी जुड़ नहीं पाया. अमेरिका के ओशो आश्रम में रहते हुए ही पत्नी गीतांजलि से अलगाव हुआ. 1985 में तलाक के साथ ये बात तो खत्म हो गई.

इसके बाद उन्होंने अपने से 16 साल छोटी कविता दफ्तरी से शादी कर ली. कविता, अमेरिका और यूरोप से पढ़ाई पूरी करने के बाद इंडस्ट्रियलिस्ट पिता सरयू दफ्तरी का बिजनेस संभाल रही थी. विनोद खन्ना से पहली मुलाकात एक पार्टी में हुई थी. प्यार परवान चढ़ा और दोनों ने शादी की. फिल्मी करियर की बात करें तो इसके बाद से उन्हें वो चार्म कभी नहीं मिला जो 70 के दशक में रहता था. मगर उनकी परफॉर्मेंस को हमेशा पसंद किया गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay