एडवांस्ड सर्च

छोटे कपड़ों में सूफी गाना इस्लाम के खिलाफ, सोना महापात्रा को मिली धमकियां

बताते चलें कि सोना को जिन गानों पर धमकियां मिली हैं उनमें से एक वीडियो पांच साल पुराना है.

Advertisement
aajtak.in
हंसा कोरंगा नई दिल्ली, 01 May 2018
छोटे कपड़ों में सूफी गाना इस्लाम के खिलाफ, सोना महापात्रा को मिली धमकियां सोना मोहपात्रा

मशहूर सिंगर सोना मोहापात्रा के एक गाने को लेकर विवाद सामने आ रहे हैं. सोना के आरोपों के मुताबिक एक संगठन ने धमकी दी है. संगठन को छोटे कपड़े में सोना के गाने पर आपत्ति है. धमकियों के बाद सिंगर ने पुलिस को पूरे मामले की जानकारी दी है.

बताते चलें कि सोना को जिन गानों पर धमकियां मिली हैं उनमें से एक वीडियो पांच साल पुराना है.

प्रियंका के गुपचुप शादी करने की थी चर्चा, एक्ट्रेस ने दिया ये जवाब

किस गाने के लिए और क्यों मिल रही हैं धमकियां

सोना को लेटेस्ट ट्रैक 'तोरी सूरत' के लिए धमकियां मिली हैं. दो गानों पर आपत्ति जताई गई है. सोना के मुताबिक, मदारिया सूफी फाउंडेशन की ओर से उन्हें कई दिनों से धमकियां मिल रही थीं. सोना ने मुंबई पुलिस को ट्वीट कर धमकी की जानकारी दी. उन्होंने लिखा- डियर मुंबई पुलिस, मुझे मदारिया सूफी फाउंडेशन की तरफ से धमकी भरे नोटिस मिल रहे हैं. वे चाहते हैं कि मैं अपना म्यूजिक वीडियो तोरी सूरत हर प्लेटफॉर्म से हटा दूं. उनका कहना है कि वीडियो वल्गर है इससे सांप्रदायिक दंगे हो सकते हैं.

जब इंटरनेशनल मैग्जीन के एडिटर को प्रियंका ने कहा- 'Get Out...'

सोना ने और क्या लिखा ?

दूसरे ट्वीट में सोना ने लिखा- मदारिया फाउंडेशन ने मुझे रेग्युलर ऑफेडर कहा है. उन्हें मेरा 5 साल पुराना वीडियो मिला है जिसमें कोक स्टूडियो पर मैंने 'पिया से नैना' सॉन्ग गाया है. उन्होंने इसे इस्लाम की बेइज्जती बताया है क्योंकि इसमें मैंने छोटे कपड़े पहने थे. सोना ने इस मामले को लेकर कहा, मदारिया फाउंडेशन 6 दिनों से परेशान कर रहा है.

उन्होंने लिखा, मदारिया फाउंडेशन को तोरी सूरत म्यूजिक वीडियो में मेरी स्लीवलेस ड्रेस और बॉडी एक्पोजिंग डांसर्स के होने पर दिक्कत है. सूफी फाउंडेशन का दावा है कि मुझे धमकी देने के पीछे उनका मकसद सौहार्द और शांति बनाए रखना था. मैं इंडिया से पूछती हूं कि आप सिस्टरहुड के बारे में क्या कहेंगे? क्यों महिलाओं को कवर करने के लिए कहा जाता है. क्यों पब्लिक में गाने और डांस करने के लिए मना किया जाता है?

सूफी किसी की जागीर नही- जावेद 

सोना को फिल्म इंडस्ट्री में किसी से सपोर्ट नहीं मिल रहा है. सिर्फ जावेद अख्तर सिंगर के समर्थन में आए हैं. जावेद अख्तर ने लिखा-  मैं उन प्रतिक्रियावादी संगठनों की निंदा करता हूं जो अमीर खुसरो के गीत पर बने सोना के वीडियो का विरोध कर रहे हैं.  इन मुल्लाओं को पता होना चाहिए कि अमीर खुसरो हर भारतीय से जुड़े हुए हैं. ये आपकी जागीर नहीं हैं.

कौन हैं सोना ?

सोना पार्श्व गायिका, संगीतकार और गीतकार हैं. उनका जन्म 17 जून 1976 को कटक (ओडिशा) में हुआ था. उन्हें हिंदी सिनेमा में अलग तरह की गायकी के लिए जाना जाता है. सोना ने बीटेक में डिग्री ली है. वो सिम्बोयसिस से एमबीए पास आउट भी हैं. सोना की शादी फिल्म संगीतकार और संगीत निर्देशक राम संपत से हुई है. दोनों पति-पत्नी मुंबई में अपना अलग-अलग म्यूजिक स्टूडियो चला रहे हैं. सोना पहले एड के लिए जिंगल बनाती थीं. टाटा साल्ट-कल का भारत है, क्लोजअप-पास आओ ना उनके मशहूर जिंगल हैं. जिसे उन्होंने खुद गाया भी. इसके बाद उन्होंने फिल्म डेली-बेली का 'बेदर्दी राजा' गाने में अपनी आवाज दी. सोना आमिर खान के शो में बतौर परफॉर्मर दिखीं और उन्होंने सत्मेव जयते में घर बहुत याद आता हैं, मुझको क्या बेचेगा रुपैया से काफी मशहूर हुईं. उन्होंने आमिर की फिल्म तलाश का जिया लागे ना गाना भी गाया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay