एडवांस्ड सर्च

येसुदास: वह सिंगर जिसे कहना पड़ा- अब मुझे और अवॉर्ड्स न दें

येसुदास के भारत ही नहीं, विदेश में भी कॉन्सर्ट होते हैं. के.जे. येसुदास का जन्म 10 जनवरी, 1940 को केरला के फोर्ट कोच्चि में हुआ था. उनके पिता अगस्टिन जोसेफ एक प्रसिद्ध मलयालम शास्त्रीय संगीतकार और उस उसमय के स्टेज एक्टर थे.

Advertisement
aajtak.in [Edited By:महेन्द्र गुप्ता]नई दिल्ली, 10 January 2019
येसुदास: वह सिंगर जिसे कहना पड़ा- अब मुझे और अवॉर्ड्स न दें येसुदास

सिंगर के.जे. येसुदास के सदाबहार नगमें किसी को भी मंत्रमुग्ध कर सकते हैं. वे मूलत: एक मलयाली भारतीय शास्त्रीय संगीतकार हैं, लेकिन उन्हें पूरा देश सुनता है और सम्मान करता है. भारत ही नहीं, विदेश में भी उनके कॉन्सर्ट होते हैं. के.जे. येसुदास का जन्म 10 जनवरी, 1940 को केरला के फोर्ट कोच्चि में हुआ था. उनके पिता अगस्टिन जोसेफ एक प्रसिद्ध मलयालम शास्त्रीय संगीतकार और उस उसमय के स्टेज एक्टर थे. उनके पिता ही उनके पहले गुरु थे.

येसुदास की विलक्षण प्रतिभा का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि उन्होंने सिर्फ 7 साल की उम्र में फोर्ट कोची में आयोजित होने वाली स्थानीय प्रतियोगिता में संगीत के लिए स्वर्ण पदक जीत लिया था. हिंदी, मलयालम, तमिल जैसी भारतीय भाषाओं में गाने वाले येसुदास ने रूसी, लैटिन और अरबी भाषाओं में लगभग एक लाख गाने गाए. उन्हें देश-विदेश में कई प्रतिष्ठि‍त सम्मानों से नवाजा गया. उनको इतने अवॉर्ड मिल चुके हैं कि 1987 में उन्हें कहना पड़ गया था कि अब मुझे कोई और अवॉर्ड न दें.  1973 में पद्म श्री और 2002 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया.

येसुदास को ‘गोरी का गांव प्यारा’, लेकिन जींस नहीं

बता दें कि सोवियत संघ सरकार ने येसुदास को पूर्व सोवियत संघ में संगीत समारोहों में प्रदर्शन करने के लिए आमंत्रित किया था. 1970 में उन्होंने केरल के संगीत नाटक अकादमी का नेतृत्व किया, जो अकादमी के इतिहास में पद धारण करने वाले सबसे कम उम्र के व्यक्ति थे.

हिंदी सिनेमा में येसुदास की भूमिका

दक्षिण की भाषाओं के अलावा येसुदास ने हिंदी फिल्मों में भी गाया. उन्होंने साल 1971 में फिल्म 'जय जवान जय किसान' से बॉलीवुड में एंट्री की थी. फिल्म 'छोटी सी बात' के गाए उनके गाने 'जानेमन-जानेमन' ने उन्हें काफी मशहूर बना दिया था.

महिलाओं के जीन्स पहनने को लेकर की टिप्पणी से आए विवादों में

येसुदास अपनी एक टिप्पणी के कारण विवादों में आ गए थे. उन्होंने महिलाओं के जींस पहनने का विरोध करते हुए कहा था कि यह भारतीय संस्कृति के खिलाफ है. उनके इस बयान की हर तरफ आलोचना हुई थी.

तिरूवनंतपुरम में आयोजित एक समारोह में येसुदास ने कहा था, ‘जींस पहनकर महिलाओं को दूसरों के लिए समस्या पैदा नहीं करनी चाहिए. जो ढकने लायक है, उसे ढका जाना चाहिए.’ उन्होंने कहा था कि इस तरह की पोशाक भारतीय संस्कृति के खिलाफ हैं, जिसमें सादगी और सौम्यता को महिलाओं के सबसे बड़े गुणों में गिना जाता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay