एडवांस्ड सर्च

पौराणिक कथाओं के रहस्य में सवालों का झंझावात

देवलोक इस शब्द में ही इतने रहस्य और इतना कौतुहल छुपा हुआ है. जिसका हिसाब आदि काल से कोई नहीं लगा सका. इस अकेले नाम और इससे जुड़े तमाम किस्सों में तिलस्म ही तिलस्म है, जो पढ़ने, सुनने और समझने की कोशिश करने वालों को हरदम अपनी ओर खींचता है.

Advertisement
गोपाल शुक्लनई दिल्ली, 03 November 2015
पौराणिक कथाओं के रहस्य में सवालों का झंझावात पौराणिक कथाओं के रहस्य में सवालों का झंझावात

देवलोक इस शब्द में ही इतने रहस्य और इतना कौतुहल छुपा हुआ है. जिसका हिसाब आदि काल से कोई नहीं लगा सका. इस अकेले नाम और इससे जुड़े तमाम किस्सों में तिलस्म ही तिलस्म है, जो पढ़ने, सुनने और समझने की कोशिश करने वालों को हरदम अपनी ओर खींचता है. इस कौतुहल का सबसे रोचक और दिलचस्प पहलू तो ये है कि इस रहस्य की एक भी पर्त खोलने की कोशिश करने का मतलब है, सवालों का ऐसा बवंडर पैदा करना, जिसे थामना मुश्किल ही नहीं करीब करीब नामुमकिन हो जाता है.

किसी भी किस्से और कहानियों में सवालों का सिलसिला अक्सर उस मोड़ से पैदा होता हैं, जहां से उस किस्से या कहानी के नायक नायिकाओं और उनकी योग्यता का विकास शुरू होता है.

क्या कभी सोचा है कि रावण के बगैर रामायण की कल्पना तक नहीं हो सकती, महाभारत की शुरूआत से बहुत पहले कंस के बगैर कृष्ण का कोई वजूद ही नजर नहीं आता और शकुनि के बिना महाभारत के बारे में सोचा भी नहीं जा सकता.

प्रेम के देवता कामदेव और शिव की तपस्या का रोचक प्रसंग न जाने कितने मन में सवाल खड़े करता है, जिनके जवाब देने में या तो शब्द बौने पड़ जाते हैं, या फिर अधूरी जानकारी जवाब का रास्ता रोक कर खड़ी हो जाती है.

पुराण और वेद के किस्से सुनते वक्त कई बार मन में गरुण और अरुणि के जन्म का रहस्य सामने सवाल बनकर खड़ा दिखाई देता है. इनसे जुड़ी हुई कथा का देवलोक के रहस्य से क्या लेना देना है.

विनता का पुत्र होने के नाते गरुड़ दास बनकर पैदा हुआ था, क्योंकि उसकी मां नागों की दासी थी. गरुड़ ने अपने स्वामियों से पूछा कि वह किस तरह अपने को मुक्त करा सकता था. इस रहस्य से जुड़ा सारा किस्सा क्या है.

इंद्र के सारथी मातलि की बेटी गुणकेशी का नाग सुमुख से प्रेम की कथा और इंद्रलोक के रहस्य का आपस में क्या मेल है. ये जानने की परम इच्छा पैदा हो जाती है. लेकिन फिर भाषा की अड़चन इस कदर आड़े आकर खड़ी होती है कि रहस्य को समझने वाले उत्साह पर पल भर में पानी पड़ जाता है.

देवदत्त पटनायक को पौराणिक कथाओं का विशेषज्ञ माना जाता है और बीते एक सालों के दौरान उनकी लेखन यात्रा ने ऐसा वातावरण तो दे ही दिया है जो इस बात का एहसास करवा सके कि उनकी कलम ऐसे कई सवालों के जवाब देने में सक्षम है, जिन सवालों के जवाब की तलाश के लिए न जाने कितने लोग इधर उधर भटकते दिखाई दे रहे हैं.

ऐसे ही सवालों के चक्रव्यू में फंसे लोगों को उनके जवाब तक पहुंचाने के लिए एक पहल का सिलसिला शुरू हुआ है, जिसमें सौ साल से ज्यादा पुराना प्रकाशन घराना, राजपाल है तो नए चलन से बाजार को अपने काबू में करने की काबिलियत रखने वाला अमेजन डॉट काम सहयोगी बने हैं.

क्या अजीब इत्तेफाक है कि देव और पौराणिक कथाओं और उससे जुड़ी मीमांसाओं को जागरूक होने को लालायित लोगों के नजदीक ले जाने का ये शायद सबसे नया तरीका होगा. असल में कहा जाए तो ये एक लेखक को उसके असली और सार्थक रुप में पाठकों तक पहुंचाने की एक पहल की गई है. इस शुरूआत का सबसे रोचक पहलू यही है कि इसके जरिए लेखक और उसके पाठकों के बीच एक अनूठा मगर दिलचस्प रिश्ता कायम होता है, जिसकी शायद किसी भी लेखक को जरूरत होती है.

वैसे भी एक लेखक को क्या चाहिए. उसकी लिखी हुई इबारत को पढ़ कर समझ सकने वाले लोग और अगर वो इबारत किसी भी शक्ल में उन सवालों का जवाब दे सके, जो लोगों के मन में उठते रहे हों और जिनके जवाब पाने के लिए उसे काफी मशक्कत करनी पड़ी हो, तो इससे बेहतर पुरस्कार किसी भी लेखक के लिए और कुछ हो ही नहीं सकता. शायद प्रकाशक और डॉट काम की ये कोशिश उन लोगों को लेखक के और भी करीब ले आए, जहां तक लेखक वाकई अपनी कलम के सहारे पहुंचने के लिए इस लेखन यात्रा का मुसाफिर बनना स्वीकार करता है.

अपने पसंदीदा लेखक देवदत्त पटनायक तक पहुंचने के लिए अमेजन ने एक बेहद ही दिलचस्प रास्ता तैयार किया है. इसमें पटनायक की कुछ नई पुस्तकों की एक प्रश्नोत्तरी तैयार की है जिसमें शिरकत करने वालों को उन पुस्तकों का पुरस्कार मिलेगा, जिन्हें वो पाना ही चाहते हैं.

अपने लेखन से देवदत्त पटनायक केवल पौराणिक या देव लोक के तिलस्म की कहानियां ही नहीं सुनाते हैं, बल्कि उनका शोध ये भी बताने का प्रयास करता है कि मौजूदा राजनैतिक सामाजिक ताने बाने के बीच ब्राह्मणों की सत्ता को जिस तरह से चुनौती दी जा रही है, क्या ऐसा पहले भी कभी हुआ. ये सवाल उस वक्त खड़ा होता है जब हम आज के संदर्भ में अपने वेद और पुराणों को देखने की कोशिश करते हैं.

ऐसे कितने ही कौतुहल पैदा करने वाले सवालों के जवाब यूं तो हमारे वेद और पुराणों में मौजूद हैं लेकिन वेद और पुराण का जिक्र लोगों के दिलों में गहरे अर्थ का भ्रम भी पैदा करता है. एक शंका इस बात की कि कहीं वो पढ़ा हुआ समझ में नहीं आया तो. हालांकि देवी और देवताओं को लेकर देवदत्त पटनायक ने जिस तरह की बातों को विषय बनाकर बेबाक तरीके से अपनी लेखनी में उतारा है, उसको लेकर एक ही सवाल था हमारे मन में कि क्या हमारा समाज किसी भी स्थिति में अपने देवी देवताओं को स्वीकार करने की हालत में है, उसे कितनी स्वीकारता मिल सकती है, लेकिन इस सवाल का जवाब देवदत्त पटनायक अपने ही बेबाक और बेखौफ अंदाज में 12 वीं सदी के जाने माने रचयिता जयदेव की उस कविता का जिक्र करके देते हैं, जिसमें कृष्ण का भोग के साथ संबंध का जिक्र आदमी की जीवनशैली से जुड़़ा हुआ होता है.

यानी आज की दौड़ती भागती जिंदगी के दौरान उठने वाले अनगिनत सवालों और उनके वाजिब जवाब की तलाश ही आज के किसी भी लेखन को न सिर्फ उसका सार्थक दायित्व दिलवा सकता है बल्कि उसे लोकप्रिय भी बना सकता है. शायद देवदत्त पटनायक इस कसौटी पर किसी भी समकालीन लेखक की तुलना में ज्यादा खरे उतरते दिखाई दे रहे हैं.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay