एडवांस्ड सर्च

आर्टिकल 15 Review: देश की जड़ में फैले कास्ट सिस्टम को दिखाती डार्क फिल्म

अनुभव सिन्हा की नई फिल्म आर्टिकल 15 देश में हजार सालों से फैले कास्ट सिस्टम पर करारा प्रहार है. इस मूवी में आयुष्मान खुराना लीड रोल में हैं. जानिए कैसी बनी है फिल्म...

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 30 June 2019
आर्टिकल 15 Review: देश की जड़ में फैले कास्ट सिस्टम को दिखाती डार्क फिल्म आर्टिकल 15 के एक सीन में आयुष्मान
फिल्म: Article 15
कलाकार: Aayushman Khurana, Kumud Mishra, Manoj Pahwa, Sayani Gupta, Mohammad Jeeshan Ayub
निर्देशक: Anubhav Sinha

किसी शख़्स की औकात क्या होती है? आर्टिकल 15 के एक सीन में जब एक पुलिस वाला एक ठेकेदार से ये सवाल करता है तो वो कहता है कि 'हमारे यहां काम करने वालों की औकात वही होती है, जो हम तय करते हैं. सबकी कोई ना कोई औकात होती ही है.'

आम भाषा में बात की जाए तो ये औकात दरअसल किसी भी शख़्स की आर्थिक स्थिति, समाज में उसके रूतबे और उसकी जाति द्वारा निर्धारित होती आई है. हर समुदाय की अपनी खुद की दिक्कतें हैं लेकिन आज भी समाज में एक बड़ा तबका ऐसा है जो घोड़ी चढ़ने पर, ऊंची जाति के कुओं से पानी भरने पर, कुर्सी पर बैठकर खाना खाने करने पर हड्डियों को तुड़वाता है या अपनी जान से हाथ धो देता है. आर्टिकल 15 समाज के इसी सबसे निचले पायदान पर मौजूद तबके की बात करती है.

यूरोप में एक लंबा दौर बिता चुके अयान रंजन पारंपरिक एनआरआई की तरह अपने देश से प्यार करते हैं. वे अपने देश की दिलचस्प कहानियों को अपने यूरोपियन दोस्तों को सुनाते हुए गर्व महसूस करते हैं, बॉब डिलन के गाने सुनते हैं और एक खास प्रीविलेज के साथ अपना जीवन बिताते आए हैं. अयान की पोस्टिंग एक गांव में होती है जहां दो लड़कियों का बलात्कार हुआ है और उन्हें पेड़ से लटका दिया गया है. पुलिस प्रशासन इस केस को रफा दफा करने का भरसक प्रयास करती है. अयान के लिए ये एक तगड़ा कल्चरल शॉक होता है. उसे अपने देश की एक अलग तस्वीर दिखती है जो उसके सपनीले भारत की तस्वीर से कहीं ज्यादा स्याह और धुंधली है मगर वो इस केस की तह तक जाता है और इस पूरी यात्रा में उसे कई कड़वी सच्चाईयों का सामना करना पड़ता है.

आयुष्मान खुराना इस फिल्म से पहले तक कई ऐसी फिल्मों में नज़र आए हैं जिनमें हंसी ठिठोली के बीच सोशल मुद्दों के बारे में बातें की जाती रहीं पर इस फिल्म में डार्कनेस का स्तर बेहद तीव्र है और फिल्म की सिनेमाटोग्राफी उसी तीव्रता को पर्दे में दिखाने में कामयाब रही है. डरावने बैकग्राउंड म्यूजिक के साथ सर्दियों की धुंध के बीच लटकते लड़कियों के शव सिहरन पैदा करते है वही एक सीन में बिना किसी सुरक्षा के मैनहोल में घुसते शख्स के सहारे अनुभव लोगों को अनुभव कराना चाहते हैं कि समाज का एक हिस्सा आज भी हमारी अनभिज्ञता के चलते बुरी तरह प्रताड़ित है.

कुछ जगहों पर फिल्म में काफी मेलोड्रामा भी है मसलन अयान बच्चियों को न्याय दिलाना चाहता है और उसे सिस्टम से भी खास परेशानियां देखने को नहीं मिलती है. जबकि देश में कई ऐसे मामले हैं जब सिस्टम के खिलाफ जाने के चलते कई ईमानदार अफसरों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है. कहा जा सकता है कि बॉलीवुड फिल्मों की रील लाइफ से ज्यादा डरावनी कभी-कभी रियल लाइफ होती है.

फिल्म के हीरो मनोज पाहवा है. उन्होंने एक ऐसे पुलिसवाले का रोल निभाया है जो जानवरों से प्यार करता है लेकिन इंसानों के लिए उसमें क्रूरता भरी हुई है. पिछले कुछ समय में सेक्रेड गेम्स के पुलिस किरदारों के बाद मनोज के किरदार में ग्रे शेड्स हैं और अंत तक उनका किरदार प्रासंगिक बना रहता है. वही आयुष्मान खुराना और कुमुद मिश्रा ने भी अच्छी एक्टिंग की है.

आयुष्मान और उनकी गर्लफ्रेंड के बीच संवाद जाहिर करते हैं कि मॉर्डन दौर में कोई अपर क्लास शहरी लड़का भारत की अंतड़ियों में फैले कास्ट सिस्टम के जहर से कैसे डील करता है वही कुमुद-मनोज पाहवा के सहारे पुलिस प्रशासन में फैले जातिवाद सिस्टम की डार्क रियैल्टी भी देखने को मिलती है. सयानी गुप्ता मेकअप और लुक से गांव की लड़की लगती है लेकिन बोली और बॉडी लैंग्वेज में शहरीपन नज़र आता है जो अखरता है. फिल्म में बैकग्राउंड म्यूजिक कुछ जगहों पर मारक साबित होता है हालांकि कुछ जगहों पर इसकी बिल्कुल जरूरत महसूस नहीं होती. दलित नेता चंद्रशेखर से प्रभावित किरदार में मोहम्मद जीशान अयूब  ने अच्छा काम किया है. फिल्म में अयूब का कैरेक्टर ज्यादा बड़ा नहीं है लेकिन कैसे एक्टिविस्म की दुनिया में शामिल होने के बाद आम जिंदगी से ऐसे नेताओं का नाता टूट जाता है, इस पीड़ा को जीशान दिखाने में कामयाब रहे हैं.

फिल्म के कई हिस्सों में मौजूदा दौर के राजनीतिक भूचाल को प्रतीकात्मक तरीके से दिखाया गया है. ब्राह्राणों-दलितों की एकता को भुनाता एक राजनेता, इस एकता के खिलाफ खड़ा एक दलित नेता, मरी गाय का चमड़ा छीलने पर पिटते दलितों जैसे कई सीन्स ऐसे हैं जो मौजूदा समय की राजनीति के कई पहलुओं को भी दिखाते हैं. एक ऐसे दौर में जब छद्म राष्ट्रवाद से प्रेरित कई फिल्में बॉलीवुड में रिलीज़ हो रही हैं, अनुभव इस फिल्म के सहारे लोगों के सामने उसी कड़वी सच्चाई को परोसते हैं जो सालों से देश को खोखला करती आई हैं. ये फिल्म लोगों के बीच कास्ट सिस्टम को लेकर जागरूकता फैलाने का काम कर सकती है लेकिन ये कितनी असरदार होगी, ये फैसला लोगों को ही करना है. एक ऐसे दौर में जब देश का एक बड़ा हिस्सा पानी के संकट से ज्यादा दूर नहीं है, 15 बड़े शहर दुनिया के सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों में आते हैं, बेरोजगारी दर कई दशकों में सबसे ज्यादा है, ग्लोबल वार्मिंग जैसी समस्या मुंह बाए खड़ी है, ऐसे दौर में अब नई चुनौतियों से जूझने के लिए पुरानी समस्याओं को पूरी तरह से खत्म कर देना जायज है.  

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay