एडवांस्ड सर्च

दीपावली पर फिर सक्रिय हुए मिलावट के धंधेबाज

दीपावली के नजदीक आते ही मिलावटखोर अपनी मनमानी से बाज़ नहीं आ रहे हैं. देश के अलग-अलग हिस्सों से मिलावटी मावा पकड़े जाने का दौर जारी है.

Advertisement
aajtak.in
नितिन जैन/गजेंद्र त्रिपाठीनई दिल्‍ली/गोरखपुर, 27 October 2010
दीपावली पर फिर सक्रिय हुए मिलावट के धंधेबाज

दीपावली के नजदीक आते ही मिलावटखोर अपनी मनमानी से बाज़ नहीं आ रहे हैं. देश के अलग-अलग हिस्सों से मिलावटी मावा पकड़े जाने का दौर जारी है.

दिल्ली में सरकार ने मिलावट के खिलाफ मुहिम छेड़ दी है. बुधवार को दिल्ली की सबसे बडी़ मावा मंडी में सरकार ने छापे मारे और मावा बेचने वालों में हडकंप मच गया. देखते ही देखते एक के बाद एक नकली मावा लेकर लोग भागते नजर आए.

दीवाली आने वाली है. बाजार में मिठाइयों की दुकानें सज गई है, लेकिन इसके साथ ही राजधानी पर मंडराने लगा है नकली खोए से बनी मिठाई का खतरा. दिल्ली के कश्मीरी गेट इलाके में जब मावा मंडी पर छापा मारा गया, तो वहां हडकंप मच गया. मावा बेच रहे व्यापारियों को मंडी से बाहर कर दिया गया और अलग अलग दुकानों से मावे के सैंपल इकट्ठे किए गए.

दिल्ली सरकार के खाद्य विभाग को जानकारी मिली थी कि इस मावा मंडी में त्यौहारो के मौके पर बडी मात्रा में मिलावटी मावा बेचा जा रहा है. इसी की जांच के लिए छापेमारी की गई. सरकार की इस कार्रवाई से व्यापारी सकते में हैं.

नकली मावे से बनी मिठाइयां देखने में तो बिल्कुल असली जैसी ही लगती है, लेकिन ये सेहत के लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकती है. नकली पाउडर, चाक पाउडर और दूसरी मिलावटों से बना नकली खोया लीवर को बुरी तरह नुकसान पहुंचा सकता है.

मिलावट के काले कारोबारी मुनाफ़े के लिए किसी भी हद तक गिरने को तैयार हैं. उन्हें इसकी कोई फ़िक्र नहीं कि मिलावटी मिठाई खाने से लोगों को कितना नुकसान पहुंचेगा. यूपी के गोरखपुर में बुधवार को मिलावटी मावे की बड़ी खेप पकड़ी गई. नक्काली के इस कारोबार के लिए मिलावटखोरों ने किया रोडवेज़ की बस का सहारा लिया. सिटी मजिस्ट्रेट की अगुवाई में खाद्य विभाग ने रोडवेज़ बस स्टेशन पर छापा मारा, तो कानपुर से गोरखपुर पहुंची एक बस से 20 क्विंटल मावा बरामद हुआ. नकली मावा तो मिल गया, लेकिन हैरानी की बात ये रही कि इस मावे पर दावा जताने वाला कोई शख्स सामने नहीं आया. लिहाज़ा प्रशासन ने इसे नकली मानते हुए ज़ब्त कर लिया.

प्रशासन उस शख्स की तलाश कर रहा है जो ये मिलावटी मावा कानपुर से लेकर आया था. बस के ड्राइवर और कंडक्टर की भूमिका भी जांच के घेरे में है. आख़िर उन्हें तो पता होना चाहिए कि उनकी बस में 20 क्विंटल मावा किसने और कहां से चढ़ाया.

राजस्थान के धौलपुर में भी बुधवार को बड़ी मात्रा में नकली मावा पकड़ा गया. 9 क्विंटल यानी 900 किलो मावा राजस्थान रोडवेज़ की बस से बरामद हुआ. ये मावे की वो खेप है, जिसे राजस्थान के धौलपुर में रसद विभाग ने पकड़ा. पूरी खेप राजस्थान रोडवेज़ की बस में भरकर राजाखेड़ा से धौलपुर लाई जा रही थी. रसद विभाग को इसकी भनक लग गई. मावा तो पकड़ा गया, लेकिन जो व्यापारी इसे लेकर आ रहा था, वो फ़रार हो गया. जांच की गई तो सारा मावा नकली निकला.

900 किलो मावे से कितनी ही मिठाई बनती और कितने ही लोगों के घर में जाती और खाने वाले को मिलता बीमारियों का तोहफ़ा. देश के लगभग हर हिस्से से रोजाना मिलावटी मावा और खराब मिठाइयों की खेप जब्त होने की खबरें आ रही है. जाहिर है अब जरूरत है बहुत सावधान रहने की.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay