एडवांस्ड सर्च

बिलबिलाते बच्चे की तरह राजस्थान की मिट्टी में क्यों लोटने लगे थे मेहंदी हसन?

मेहंदी हसन की गाड़ियों का काफिला जब राजस्थान के पैतृक गांव पहुंचा तो उन्होंने गाड़ी रुकवा दी. वो कार से उतरे, गांव में सड़क किनारे एक टीले पर छोटा-सा मंदिर था. उसके पास पड़ी रेत में लिपटकर यूं खेलने लगे जैसे बचपन लौट आया हो.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 13 June 2019
बिलबिलाते बच्चे की तरह राजस्थान की मिट्टी में क्यों लोटने लगे थे मेहंदी हसन? मेहंदी हसन

"मोहब्बत करने वाले कम न होंगे, तेरी महफ‍िल में लेकिन हम न होंगे." गजल के शहंशाह मेहंदी हसन की इस गजल का हर हर्फ उन पर पूरा सटीक बैठता है. मेहंदी हसन 13 जून 2012 को दुन‍िया से अलव‍िदा कह गए थे. मेहंदी हसन का नाम ह‍िंदुस्तान और पाकिस्तान दोनों देशों में बड़ी इज्जत से ल‍िया जाता है. उनके नगमों में वो ताकत है जो साब‍ित करती है कि संगीत की कोई सरहद नहीं होती है. वैसे मेहंदी हसन के न‍िजी जीवन की बात करें तो ह‍िंदुस्तान और पाकिस्तान दोनों से उनका गहरा र‍िश्ता है. इसकी वजह है उनकी पारिवारिक जड़ों का ह‍िंदुस्तान में होना. 

मेहंदी हसन का जन्म 18 जुलाई, 1927 को हुआ था. राजस्थान के लूना गांव में जन्मे मेहंदी हसन का परिवार पहले से ही संगीत से जुड़ा हुआ था. मेहंदी हसन ने संगीत की तालीम अपने पिता उस्ताद आजिम खान और चाचा उस्ताद इस्माइल खान की देखरेख में ली थी. मेहंदी हसन साहब ने छोटी-सी उम्र में स्टेज पर परफॉर्म करना शुरू कर दिया था. लेकिन हिंदुस्तान-पाकिस्तान के बंटवारे में उनका परिवार पाकिस्तान चला गया. कराची जाकर उन्होंने वहां के रेड‍ियो स्टेशन में काम किया.

ताउम्र मेहंदी हसन तो पाकिस्तान रहे, मौत के बाद वहीं दफन हुए. ले‍किन उनके पुरखे आज भी ह‍िंदुस्तान की मिट्टी में दफन हैं. भले ही स‍ियासत की वजह से ह‍िंदुस्तान के दो टुकड़े हो गए, लेकिन मेहंदी हसन के चाहने वालों के द‍िल में उनके ल‍िए कभी बंटवारा नहीं हुआ. न‍िधन से पहले जब उनकी तब‍ियत खराब हुई थी तब दोनों मुल्कों में दुआ के लिए एकसाथ हाथ उठे थे.

जब राजस्थान में अपनी मिट्टी से ल‍िपटकर रोए थे मेहंदी हसन

कलाकारों ने हमेशा भारत-पाकिस्तान के बीच की रंज‍िश को कम करने की कोश‍िश की है. यही काम मेहंदी हसन ने बखूबी किया. 1978 में मेहंदी हसन जब अपनी भारत यात्रा पर आए तो उस वक्त गजलों के एक कार्यक्रम के लिए वे सरकारी मेहमान बनकर जयपुर भी पहुंचे. यहां पहुंचकर उनकी एक ख्वाह‍िश को पूरा किया गया. वो ख्वाह‍िश थी एक बार उस जमीं का दीदार करने की ज‍हां उनके पुरखे दफन थे. गजल गायक की इस आरजू का पूरा ख्याल रखा गया और उन्हें पैतृक गांव राजस्थान में झुंझुनू जिले के लूना ले जाया गया.

बताते हैं कि जब मेहंदी हसन की गाड़ियों का काफिला उनके पैतृक गांव पहुंचा तो उन्होंने गाड़ी रुकवा दी. वो कार से उतरे, गांव में सड़क किनारे एक टीले पर छोटा-सा मंदिर बना था. उसके पास पड़ी रेत में ल‍िपटकर यूं खेलने लगे जैसे बचपन लौट आया हो. कहते हैं मेहंदी हसन का ये प्यार देखकर वहां खड़े हर शख्स की आंखें नम थीं, क्योंकि वक्त बीतने के बावजूद बंटवारे का दर्द लोग भूल नहीं पाए थे. 

मेहंदी हसन की मुरीद थीं लता

मशहूर गायिका लता मंगेशकर मेहंदी हसन की मुरीद थीं. लता मंगेशकर ने उनके बारे में एक बार कहा था, "ऐसा लगता है कि मेहंदी हसन साहब के गले में भगवान बोलते हैं."

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay