एडवांस्ड सर्च

सोशल मीडिया पर एक्ट‍िव हैं लता मंगेशकर, जानें कौन करता उनके ट्वीट

हिंदी सिनेमा में स्वर कोकिला के नाम से मशहूर लता मंगेशकर देश ही नहीं विदेशों में भी फेमस हैं. लता ने अपनी आवाज के जादू से लोगों के दिल में खास जगह बनाई है. आज का दिन लता के लिए खास होता है. 28 सितंबर को लता का जन्म मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में मराठी परिवार में हुआ था.

Advertisement
aajtak.in
स्वप्निल सारस्वत मुंबई, 28 September 2019
सोशल मीडिया पर एक्ट‍िव हैं लता मंगेशकर, जानें कौन करता उनके ट्वीट लता मंगेशकर

हिंदी सिनेमा में स्वर कोकिला के नाम से मशहूर लता मंगेशकर देश ही नहीं विदेशों में भी फेमस हैं. लता ने अपनी आवाज के जादू से लोगों के दिलों में खास जगह बनाई है. आज का दिन लता के लिए खास होता है. 28 सितंबर को लता का जन्म मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में एक मराठी परिवार में हुआ था. लता की बहन मीनाताई मंगेशकर ने एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में बताया कि लता दिनभर क्या क्या करके अपना समय बिताती हैं. उन्होंने बताया कि उनका ट्विटर हैंडल कौन संभालता है. इसके अलावा भी उन्होंने लता से जुड़े कई सवालों के जवाब दिए.

मीनाताई मंगेशकर से पूछा गया कि 90 साल की हो रही लता मंगेशकर अपना दिन कैसे बिताती हैं, क्या वो अब भी रियाज करती हैं? वो खुद ही अपने ट्वीट करती हैं या किसी से करवाती हैं? इसके जवाब में उन्होंने बताया, ''दीदी खुद अपने ट्वीट करती हैं, बहुत ही एक्टिव रहती हैं, पूरे दिन गाती हैं पर पहले की तरह तानपुरा लेकर रियाज नहीं करतीं. खुद खाना बनाती हैं और सब बच्चों को खिलाती हैं.

(फोटो- लता मंगेशकर की बहन मीनाताई मंगेशकर)

उन्होंने कहा, ''आशा के बच्चे आते हैं तो उनको जो पसंद है वही बनाकर देती हैं. हमको आज भी वैसे ही संभालती हैं हमें कोई तकलीफ हो तो आज भी उनके पास ही जाते हैं. हृदयनाथ को तो अपना बेटा मानती हैं, मां-बाबा गए तो उनकी जगह दीदी ने ले ली. वही मां हैं वही बाबा हैं. हमारे गलत कामों पर भी दीदी को गुस्सा आता है तो खुद के ऊपर निकालती हैं हमारे ऊपर नहीं. हमें कभी नहीं डांटा. मैं, आशा या ऊषा आपस में झगड़ा करते हैं तो वही समझाती हैं.''

इसके बाद मीनाताई से पूछा गया कि आपने शादी के बाद गाना छोड़ दिया था, क्या लताजी ने आपसे नहीं कहा कि आपको गाना गाना चाहिए? इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, ''नहीं, दीदी ने कहा ठीक किया, तुम्हारी शादी हो गई है नहीं गाना चाहती हो मत गाओ और कुछ करो अगर करना है तो मैंने म्यूजिक डॉयरेक्शन शुरू किया. बच्चों के गाने बनाए. रचना और दीपक मेरे बच्चे छोटे थे. उन्होंने ही उन गानो को गाया. जबकि उस समय आशा या दीदी ही बच्चों के गाने गाती थीं पर मुझे लगता था कि बड़ों के गाने में वो भावना नहीं आती.''

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay