एडवांस्ड सर्च

राजस्थान चुनाव: अपने गढ़ भोपालगढ़ में वापसी करेगी कांग्रेस?

राजस्थान में विधानसभा की कुल 200 सीटें हैं, साल 2013 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी 163 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी. जबकि कांग्रेस 21 सीटों पर सिमट गई. बसपा को 3, NPP को 4, NUZP को 2 सीटें मिली थीं. जबकि 7 सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवार जीते थे.

Advertisement
aajtak.in
विवेक पाठक नई दिल्ली, 30 September 2018
राजस्थान चुनाव: अपने गढ़ भोपालगढ़ में वापसी करेगी कांग्रेस? कांग्रेस का गढ़ हुआ करता था जाट बहुल भोपालगढ़ विधानसभा

राजस्थान मे विधानसभा चुनाव का विगुल बज चुका है. सभी दल एक दूसरे को घेरने के लिए सियासी बिसात बिछा रहे हैं. मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सरकार की उपलब्धियों को लेकर जनता के बीच गौरव यात्रा कर रही हैं. वहीं बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह कार्यकर्ताओं को अपना बूथ सबसे मजबूत का संदेश दे रहे हैं. कांग्रेस भी संकल्प यात्रा के माध्यम से अपनी ताकत का प्रदर्शन कर रही है.

सीटों के लिहाज से राजस्थान के सबसे बड़े क्षेत्र मारवाड़ में जोधपुर संभाग के 6 जिले-बाड़मेर, जैसलमेर, जालौर, जोधपुर, पाली, सिरोही की कुल 33 सीट और नागौर जिले की 10 सीटों को मिलाकर कुल 43 विधानसभा क्षेत्र हैं. कभी कांग्रेस का गढ़ रहे मारवाड़ में पिछले चुनाव में बीजेपी ने 39 सीट जीत कर इस गढ़ को ढहा दिया. कांग्रेस के खाते में तत्कालीन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सीट समेत महज तीन सीट आई जबकि एक सीट पर निर्दलीय ने कब्जा जमाया.

जोधपुर जिले की दस विधानसभा-फलोदी, लोहावट, ओसियां, शेरगढ़, जोधपुर, सूरसागर, सरदारपुरा, बिलाड़ा, भोपालगढ़ और लूणी सीट में 9 पर बीजेपी का कब्जा है. जबकि सरदारपुरा विधानसभा सीट से पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत विधायक हैं.

भोपालगढ़ विधानसभा क्षेत्र संख्या 126 की बात करें तो यह अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित सीट है. 2011 की जनगणना के अनुसार यहा की जनसंख्या 365645 है और यह पूरी तरह से ग्रामीण क्षेत्र हैं. वहीं कुल आबादी का 21.21 फीसदी अनुसूचित जाति और 1.32 फीसदी अनुसूचित जनजाति हैं. 2017 की वोटर लिस्ट के अनुसार भोपालगढ़ में मतदाताओं की संख्या 260448 और 273 पोलिंग बूथ हैं. 2013 के विधानसभा चुनाव में इस सीट पर 64.35 फीसदी और 2014 के लोकसभा चुनाव में 53.01 फीसदी मतदान हुआ था.

भोपालगढ़ विधानसभा कांग्रेस का गढ़ रहा है, पूर्व मंत्री परसराम मदेरणा इस सीट प्रतिनिधित्व करते रहे हैं. तब यह सामान्य सीट हुआ करती थी. 2008 से यह सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित कर दी गई. तब से बीजेपी लगातार दूसरी बार इस सीट पर काबिज है.

2013 विधानसभा चुनाव का परिणाम

साल 2013 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी विधायक और मौजूदा सरकार में राज्यमंत्री कमसा मेघवाल ने लगातार दूसरी बार जीत दर्ज करते हुए कांग्रेस के ओमप्रकाश को 35810 वोटों से पराजित किया. बीजेपी की कमसा मेघवाल को 88521 और कांग्रेस के ओमप्रकाश को 52711 वोट मिले थें.

2008 विधानसभा चुनाव का परिणाम

साल 2008 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी की कमसा मेघवाल ने कांग्रेस की हीरा देवी को 4501 वोट से शिकस्त दी. बीजेपी की कमसा मेघवाल को 48311 और कांग्रेस की हीरा देवी को 43810 वोट मिले थें.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay