एडवांस्ड सर्च

दिल्ली में अभी तक इस्तेमाल नहीं हो पाया निर्भया फंड का पैसा

आम आदमी पार्टी के विधायक मोहिंदर गोयल पर रेप का मुकदमा दर्ज होने पर स्वाति मालीवाल ने कहा कि यह मामला फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट में चलना चाहिए. मालीवाल ने कहा कि किसी भी विधायक या सांसद पर रेप का आरोप शर्मनाक है. जन प्रतिनिधियों के खिलाफ जितने भी रेप के मामले हैं वो फ़ास्ट ट्रैक पर चलें.

Advertisement
aajtak.in
रामकिंकर सिंह नई दिल्ली, 07 March 2019
दिल्ली में अभी तक इस्तेमाल नहीं हो पाया निर्भया फंड का पैसा महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल (फोटो-आजतक)

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने आयोग के अन्य सदस्यों और सैकड़ों वालंटियर के साथ 13 दिन की पदयात्रा निकाली, जो रोजाना 30 किलोमीटर चलते हुए दिल्ली के सभी जिलों से होकर गुजरी. पद यात्रा के दौरान हर रात आयोग की अध्यक्ष दिल्ली की अलग-अलग जगहों पर रुकीं और अगले दिन वहीं से अपनी यात्रा शुरू की.

यह पदयात्रा 8 मार्च की सुबह अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर दिल्ली के सेंट्रल पार्क में आयोजित एक कार्यक्रम के साथ खत्म होगी. लेकिन महिला दिवस की पूर्व संध्या पर आम आदमी पार्टी के विधायक मोहिंदर गोयल पर रेप का मुकदमा दर्ज होने पर जब स्वाति मालीवाल से सवाल पूछा गया तो उन्होंने इसका बेबाकी से जवाब दिया.

उन्होंने कहा कि यह मामला फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट में चलना चाहिए. मालीवाल ने कहा कि किसी भी विधायक या सांसद पर रेप का आरोप शर्मनाक है. जन प्रतिनिधियों के खिलाफ जितने भी रेप के मामले हैं वो फ़ास्ट ट्रैक पर चलें. केंद्र सरकार पर भी निशाना साधते हुए मालीवाल ने कहा कि आयोग ने केंद्र को इस विषय पर 10 पत्र लिखे लेकिन केंद्र सरकार की तरफ से कोई जवाब नहीं आया. वहीं आयोग को पता चला कि दिल्ली में यौन हिंसा के मामले लगातार बढ़े हैं.

राजधानी में बलात्कार और शारीरिक हिंसा के मामले कम नहीं हो पा रहे हैं. आयोग की अध्यक्ष बस्ती में कई महिलाओं और लड़कियों से मिलीं जिन्होंने बच्चों के बलात्कार और हत्या के बारे में जानकारी दी. आयोग इस मामले में नोटिस जारी कर रहा है. मालीवाल एक रात रविदास कैंप में भी रुकीं (निर्भया के बलात्कार के 2 मुख्य दोषी इस जगह रहते थे) और राष्ट्रपति को पत्र लिखकर निर्भया के दोषियों को सजा दिलवाने के लिए प्रक्रिया तेज करने को कहा है. साथ ही उनसे बलात्कार के सभी मामलों में फ़ास्ट ट्रैक ट्रायल करवाने को कहा ताकि दोषियों को 6 महीने में सजा मिल सके.    

महिला सुरक्षा पदयात्रा 24 फरवरी को सुबह 10 बजे राजघाट से शुरू हुई थी और शुक्रवार को कनॉट प्लेस में खत्म होने तब तक 330 किलोमीटर की दूरी तय कर लेगी.  इस तरह की पदयात्रा का मुख्य उद्देश्य लोगों के बीच राजधानी में महिलाओं और लड़कियों की सुरक्षा के मुद्दे पर जागरूकता फैलाना, आयोग की सेवाओं को लोगों के घर तक ले जाना और जहां संभव हो उनकी समस्याओं का तुरंत समाधान करना था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay