एडवांस्ड सर्च

वोट डालने पत्नी शबाना संग पहुंचे जावेद अख्तर, बोले- जो नहीं डालते वोट वो 'इडियट'

जावेद ने कहा कि आप दुनिया में देखिएगा तो आपको बहुत कम मुल्क ऐसे मिलेंगे. जहां है भी वहां बस कहने को है बाकी तो फौज हुकूमत कर रही है. तो जिस तरह हम सरकार से कहते हैं कि वो अपना काम करे वैसे ही नागरिक का भी कर्तव्य है कि वो आकर वोट दे और अपना वोट डाले.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 21 October 2019
वोट डालने पत्नी शबाना संग पहुंचे जावेद अख्तर, बोले- जो नहीं डालते वोट वो 'इडियट' जावेद अख्तर और शबाना आजमी

महाष्ट्र विधानसभा चुनाव में बॉलीवुड सेलेब्स ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया. ऋतिक रोशन, आमिर खान, वरुण धवन, प्रीती जिंटा और लारा दत्ता जैसे तमाम दिग्गज सितारे वोट डालने निकले. इसी क्रम में मशहूर राइटर जावेद अख्तर ने भी वोट डाला. वह अपनी पत्नी शबाना आजमी के साथ वोट डालने निकले हुए थे. जावेद ने कहा, "कोई भी सरकार होती है हम उसकी शिकायत ही करते रहते हैं. लेकिन हमारे देश में जो संविधान और वोट डालने का अधिकार है ये कितनी अच्छी चीज है."

जावेद ने कहा, "आप दुनिया में देखिएगा तो आपको बहुत कम मुल्क ऐसे मिलेंगें जहां लोकतंत्र है, ज्यादातर जगहों पर तो फौज हुकूमत कर रही है. जिस तरह हम सरकार से कहते हैं कि वो अपना काम करे वैसे ही नागरिक का भी कर्तव्य है कि वो आकर वोट दे और अपना वोट डाले. जो लोग वोट नहीं डाल रहे हैं उनके लिए आप क्या कहेंगे? इस सवाल पर जावेद ने कहा कि बस इतना ही कहूंगा कि ग्रीक भाषा में इडियट का एक मतलब ये भी है कि जो आदमी वोट न दे."

वहीं शबाना आजमी ने कहा कि ये बहुत जरूरी है कि हम इस बात को समझें कि एमएलए का जो चुनाव है वो एमपी के चुनाव से बहुत अलग होता है. आमतौर पर हम इस बात पर ध्यान नहीं देते हैं इसलिए जो हमारे लोकल इश्यू हैं वो कौन हल करेगा इस पर हम ध्यान ही नहीं देते हैं. अपनी पत्नी किरण राव के साथ वोट डालने निकले आमिर खान ने कहा, "जो मुझे लगा कि जरूरी चीजें हैं उन्हें ध्यान में रखते हुए मैंने वोट दिया है. सभी से अपील है कि आगे आएं और वोट करें."

क्या बोले विवेक ओबेरॉय-कैलाश खेर?

अधिकतर बॉलीवुड सितारों ने बाहर निकलकर वोट डालने की अपील की. जूहू के पोलिंग बूथ से वोट डाल कर निकले विवेक ओबेरॉय ने कहा कि सरकार अच्छा कर रही है और उनकी सराहना करना जरूरी है. वहीं कैलाश खेर ने कहा कि वोटिंग करना उस तरह से जरूरी है जिस तरह से खाना पीना और बाकी के काम जरूरी हैं. जिस तरह की व्यवस्था में हम रह रहे हैं उसे लोकतंत्र-प्रजातंत्र कहते हैं. क्योंकि जब कुछ ढंग का नहीं मिलता तो हम गुस्सा तो करते हैं लेकिन जब वो दिन आता है जब हमें चुनना होता है किसी एक को तो उस दिन हम आलस कर जाते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay