एडवांस्ड सर्च

'3-4 हफ्ते ही आया था फिल्में करने, पर यूं बदली लाइफ'

कोलकाता में आयोजित हुए इंडिया टुडे कॉनक्लेव ईस्ट 2018 में निर्देशक श्रीजीत मुखर्जी ने सिनेमा जगत में अपनी शुरुआत को लेकर बातचीत की.

Advertisement
aajtak.in
पुनीत पाराशर नई दिल्ली, 06 October 2018
'3-4 हफ्ते ही आया था फिल्में करने, पर यूं बदली लाइफ' श्रीजीत मुखर्जी

इंडिया टुडे कॉनक्लेव ईस्ट 2018 में चर्चा के दौरान फिल्म निर्देशक श्रीजीत मुखर्जी ने कुछ दिलचस्प बातें बताईं. जब श्रीजीत से पूछा गया कि ऑडियोग्राफ, फोटोग्राफ, वीडियोग्राफ. ये कैसा ग्राफ है. कनेक्शन क्या है? तो उन्होंने कहा, "मुझे लगता है कि यह किस्मत का ग्राफ है. बहुत सारा लक. क्योंकि मुझे लगता नहीं था कि मैं फिल्म बनाऊंगा और मेरे दोस्त और रिश्तेदार भी इसे देखेंगे."

श्रीजीत ने बताया, "मैंने प्लान बी और सी तैयार कर रखा था कि 3-4 हफ्ते तक ये सब करके फिर क्रिकेट जर्नलिज्म करने लगूंगा. मेरे कुछ सीनियर्स थे, एक बड़े खेल पत्रकार मेरे सीनियर हैं और मैं क्रिकइन्फो के दफ्तर के पास रहा करता था. लेकिन फिर एक हफ्ता 17 हफ्तों में बदल गया और लोगों ने मुझे बताया कि मैं कहानियां सुनाने में ज्यादा बेहतर हूं."

इसी कार्यक्रम में अंजन दत्ता भी मौजूद थे. उन्होंने अपनी लव लाइफ के बारे में बताते हुए कहा, "14 साल की उम्र से शुरू करके तकरीबन 30 साल की उम्र तक मुझे तमाम लोगों से प्यार हुआ और मुझे उनमें से कोई नहीं मिला. मेरा मानना है कि दर्द बहुत जरूरी है. जब तक आपका दिल नहीं टूटा है तब तक आप कलाकार नहीं बन सकते."

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay