एडवांस्ड सर्च

शुरू हुई 'छपाक' की स्क्रिप्ट रीडिंग, गुलजार के साथ फिल्म की स्क्रिप्ट पढ़ती दिखीं दीपिका पादुकोण

दीपिका पादुकोण आखिरी बार फिल्म पद्मावत में नजर आई थीं. अब वह मेघना गुलजार के निर्देशन में बनने वाली 'छपाक' में नजर आएंगी. दीपिका ने फिल्म की स्क्रिप्ट को पढ़ना भी शुरू कर दिया है.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: केपी वर्मा]नई दिल्ली, 20 March 2019
शुरू हुई 'छपाक' की स्क्रिप्ट रीडिंग, गुलजार के साथ फिल्म की स्क्रिप्ट पढ़ती दिखीं दीपिका पादुकोण दीपिका पादुकोण और विकरांत मैसी

दीपिका पादुकोण की आखिरी फिल्म पद्मावत पिछले साल जनवरी में आई थी. इसके बाद से वह बड़े पर्दे से गायब है. उनके अपकमिंग प्रोजेक्ट की बात करें तो वह मेघना गुलजार के निर्देशन में बनने वाली फिल्म छपाक में नजर आएंगी. वह बतौर प्रोड्यूसर भी इस फिल्म से जुड़ी हैं. दीपिका ने फिल्म की स्क्रिप्ट को पढ़ना शुरू कर दिया है. उन्होंने यह जानकारी सोशल मीडिया पर दी है.

दीपिका ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक फोटो शेयर किया है. इसमें वह और एक्टर विकरांत मैसी फिल्म की स्क्रिप्ट पढ़ते हुए नजर आ रहे हैं. इसके अलावा ट्रेड एनालिस्ट तरण आदर्श ने भी अपने ट्विटर अकाउंट पर तस्वीरें साझा की हैं. तस्वीर में दीपिका और विकरांत के अलावा डायरेक्टर मेघना गुलजार, दिग्गज राइटर गुलजार व अन्य लोग स्क्रिप्ट पढ़ते हुए दिख रहे हैं. बता दें कि आज फिल्म की स्क्रिप्ट पढ़ने का पहले सेशन था.

View this post on Instagram

All things are ready, if our mind be so-William Shakespeare #Chhapaak @meghnagulzar @foxstarhindi @vikrantmassey87

A post shared by Deepika Padukone (@deepikapadukone) on

View this post on Instagram

A post shared by Deepika Padukone (@deepikapadukone) on

छपाक की कहानी एसिड अटैक पीड़िता लक्ष्मी अग्रवाल पर आधारित है. फिल्म में विकरांत मैसी भी अहम किरदार निभा रहे हैं. निर्देशक मेघना विकरांत मैसी के एक्टिंग की बहुत बड़ी कायल है. एक इंटरव्यू की दौरान मेघना ने बताया था कि उन्होंने जब से 'ए डेथ इन द गूंज' फिल्म देखी है तब से वह विकरांत मैसी के साथ काम चाहती थी. उन्होंने आगे कहा था-''मैं बहुत खुश हूं कि मेरी फिल्म को किरदार के हिसाब से बिलकुल फिट एक्टर मिला है.''

दीपिका ने भी एक इंटरव्यू के दौरान फिल्म की कहानी को लेकर बताया था- ''जब मैंने फिल्म की कहानी सुनी तो मुझे लगा कि इसमें सिर्फ एक हिंसा को बयां नहीं किया गया है बल्कि यह शक्ति, साहस, आशा और जीत की कहानी है. इसकी कहानी ने मुझे बहुत अंदर तक प्रभावित किया है. इसलिए मैंने इस फिल्म का प्रोड्यूसर बनने का भी फैसला लिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay