एडवांस्ड सर्च

अयोध्या केस: मध्यस्थता पैनल आज सौंपेगा स्टेटस रिपोर्ट, 2 अगस्त को सुनवाई

अयोध्या भूमि विवाद मामले में मध्यस्थता पैनल कल सीलबंद कवर में सुप्रीम कोर्ट को स्टेटस रिपोर्ट सौंपेगा. मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अगुवाई में सुप्रीम कोर्ट की एक बेंच 2 अगस्त को मामले की सुनवाई करेगी.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 01 August 2019
अयोध्या केस: मध्यस्थता पैनल आज सौंपेगा स्टेटस रिपोर्ट, 2 अगस्त को सुनवाई सुप्रीम कोर्ट

अयोध्या भूमि विवाद मामले में मध्यस्थता पैनल गुरुवार को सीलबंद कवर में सुप्रीम कोर्ट को स्टेटस रिपोर्ट सौंपेगा. मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अगुवाई में सुप्रीम कोर्ट की एक बेंच 2 अगस्त को मामले की सुनवाई करेगी. राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 18 जुलाई को मध्यस्थता समिति को हिंदू और मुस्लिम समुदायों के बीच सहमति बनाने के लिए 31 जुलाई तक वार्ता जारी रखने का आदेश दिया था. सुप्रीम कोर्ट ने 31 जुलाई तक मध्यस्थों से अदालत की निगरानी में गोपनीय रूप से प्रक्रिया जारी रखने का अनुरोध किया, जिससे कोर्ट प्रत्यक्ष रूप से मामले में आगे आदेश दे सकेगा.

पैनल ने 7 मई को एक सीलबंद लिफाफे में अंतरिम रिपोर्ट पेश की, जिसके बाद समिति के अनुरोध पर सुप्रीम कोर्ट ने इस मुद्दे का सौहार्दपूर्ण हल निकालने के लिए 15 अगस्त तक का समय दिया. संविधान पीठ ने 11 जुलाई को मध्यस्थता पैनल को 18 जुलाई तक एक स्टेटस रिपोर्ट पेश करने के लिए कहा था. सुप्रीम कोर्ट ने 8 मार्च को बड़ा कदम उठाते हुए विवादित भूमि के सभी पक्षों से बात करने के लिए तीन सदस्यों वाली मध्यस्थता समिति का गठन कर इस विवाद को सुलझाने की कोशिश की थी. इस समिति के अध्यक्ष सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस एफएमआई खलीफुल्ला हैं. दो अन्य सदस्य आध्यात्मिक गुरु और आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर और वरिष्ठ अधिवक्ता श्रीराम पांचू हैं. इससे पहले अदालत ने अयोध्या की विवादित भूमि के मामले की सुनवाई प्रतिदिन शुरू करने के लिए 25 जुलाई की तारीख तय की थी.

अदालत ने कहा था कि जब उसे लगेगा कि मध्यस्थता अधूरी रही है वह तभी सुनवाई करेगी. हालांकि सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित की गई मध्यस्थता समिति पर राम जन्मभूमि न्यास ने असहमति जताई थी. न्यास की ओर से कहा गया था कि समिति की बिल्कुल जरूरत नहीं थी क्योंकि भगवान राम का जन्म कहां हुआ, इसमें कोई विवाद नहीं है. विवादित जगह की कमान संभालने और राम मंदिर के निर्माण की देखरेख करने के लिए विश्व हिंदू परिषद के सदस्यों ने एक स्वतंत्र ट्रस्ट के रूप में 25 जनवरी, 1993 को न्यास की स्थापना की थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay