एडवांस्ड सर्च

सुषमा स्वराज के निधन से दुखी हैं हेमा मालिनी, घर पहुंचकर दी श्रद्धांजलि

सुषमा स्वराज के पार्थिव शरीर को उनके घर में दर्शनार्थ रखा गया है. बीजेपी और तमाम दलों के नेता सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि देने सुबह से ही घर पहुंचने लगे. इनमें मथुरा से बीजेपी सांसद हेमा मालिनी भी शामिल हैं.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 07 August 2019
सुषमा स्वराज के निधन से दुखी हैं हेमा मालिनी, घर पहुंचकर दी श्रद्धांजलि सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि देने पहुंचीं हेमा मालिनी.

भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निधन से शोक की लहर है. दिल का दौरा पड़ने की वजह से सुषमा स्वराज का दिल्ली के एम्स हॉस्पिटल में निधन हो गया. सुषमा के निधन की खबर से बॉलीवुड हस्तियों को भी गहरा सदमा पहुंचा है. तमाम सितारे दिग्गज नेता, कद्दावर महिला रहीं सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि दे रहे हैं.  

निधन के बाद सुषमा स्वराज के पार्थिव शरीर को उनके घर में दर्शनार्थ रखा गया है. बीजेपी और तमाम दलों के नेता सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि देने सुबह से ही घर पहुंचने लगे. इनमें मथुरा से बीजेपी सांसद हेमा मालिनी भी शामिल हैं.

सुषमा स्वराज के घर से आई हेमा मालिनी की तस्वीरों को देखकर साफ लगता है कि बीजेपी सांसद को सुषमा स्वराज के निधन से गहरा झटका लगा है.

हेमा मालिनी ने सुषमा स्वराज के निधन की खबर के बाद सोशल मीडिया के जरिए अपना दुख जाहिर किया. हेमा ने ट्विटर पर सुषमा स्वराज के साथ तस्वीर पोस्ट करते हुए लिखा, "सुषमा स्वराज जी अब नहीं रहीं. हमारे राष्ट्र के लिए ये एक बड़ा नुकसान है. पर्सनली, मेरी पूरी पार्लियामेंट की जर्नी के दौरान वो हमेशा मेरी एक शानदार दोस्त, फिलोसोफर और मार्गदर्शक रही हैं."

हेमा ने लिखा, "नर्म भाषा बोलने वाली, हमेशा लोगों की समस्याओं के प्रति संवेदनशील रहीं. वो कई मायनों में यूनिक थीं और हमेशा लोगों के लिए समर्पित रहती थीं."

बता दें कि सुषमा स्वराज लंबे समय से किडनी की बीमारी से पीड़ित थीं. उन्होंने साल 2016 में किडनी ट्रांसप्लांट भी करवाया था. साल 2019 में अपनी बीमारी की वजह से ही सुषमा ने लोकसभा चुनाव लड़ने से मना कर दिया था. 2014 में सुषमा स्वराज को विदेश मंत्रालय का प्रभार मिला था. बीजेपी के शासन के दौरान सुषमा दिल्ली की मुख्यमंत्री भी रही थीं.

सुषमा ने विदेश मंत्री के रूप में लोगों के दिलों पर अपनी गहरी छाप छोड़ी है. सुषमा स्वराज का नाम सुनते ही लोगों को एक हंसमुख चेहरा सामने दिखाई देने लगता था, जो हमेशा जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए तैयार रहता था. सुषमा स्वराज को राष्ट्रीय स्तर की राजनीतिक पार्टी की पहली महिला प्रवक्ता होने का गौरव प्राप्त था.

इसके अलावा सुषमा स्वराज पहली महिला मुख्यमंत्री, केंद्रीय कैबिनेट मंत्री और विपक्ष की पहली महिला नेता थीं. इंदिरा गांधी के बाद सुषमा स्वराज दूसरी ऐसी महिला थीं, जिन्होंने विदेश मंत्री का पद संभाला था. बीते चार दशकों में वे 11 चुनाव लड़ीं, जिसमें तीन बार विधानसभा का चुनाव लड़ीं और जीतीं. सुषमा सात बार सांसद भी रहीं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay