एडवांस्ड सर्च

इस एक्टर को खुद से बेहतर कलाकार मानते थे अमिताभ बच्चन

बलराज साहनी को देश के सबसे बेहतरीन एक्टर्स में शुमार किया जाता है. लेकिन उनकी पहचान महज एक्टिंग तक ही सीमित नहीं थी. अमिताभ बच्चन उन्हें अपने से बेहतर एक्टर मानते थे.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: पुनीत उपाध्याय]नई दिल्ली, 01 May 2019
इस एक्टर को खुद से बेहतर कलाकार मानते थे अमिताभ बच्चन बलराज साहनी

बलराज साहनी को देश के सबसे बेहतरीन एक्टर्स में शुमार किया जाता है. लेकिन उनकी पहचान महज एक्टिंग तक ही सीमित नहीं थी. अमिताभ बच्चन उन्हें अपने से बेहतर एक्टर मानते थे. आइए जानते हैं बहुमुखी प्रतिभा के धनी बलराज साहनी के बारे में कुछ बातें.

1- बलराज साहनी का जन्म, 1 मई, 1913 को रावलपिंडी में हुआ था. साल 1946 में दूर चलें फिल्म से उन्होंने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत की.

2- उन्होंने धरती के लाल, हलचल, नौकरी गरम कोट, हकीकत, गरम हवा, दो बीघा जमीन, वक्त और काबुलीवाली जैसी बेहतरीन फिल्मों में काम किया.

3- बलराज के पास अंग्रेजी लिटरेचर में मास्टर्स डिग्री थी. इसके अलावा उन्होंने पंजाब यूनिवर्सिटी से हिंदी लिटरेचर में भी डिग्री हासिल की थी. उन्होंने कुछ समय के लिए रवीन्द्र नाथ टैगोर के शांति निकेतन में अपनी पत्नी के साथ पढ़ाया भी था.

4- अपने फिल्मी करियर से पहले बलराज साहनी ने बीबीसी के साथ काम किया और यूरोप में द्वितीय विश्व युद्ध को कवर किया था. इसके चलते वे मशहूर लेखक जॉर्ज ओरवेल और टीएस एलियट की नज़रों में भी आ गए थे.

5- बलराज साहनी कई भाषाओं के जानकार थे. वे हिंदी, उर्दू और इंग्लिश में महारत हासिल करने के चलते ही बीबीसी में रेडियो होस्ट और न्यूज रीडर की भूमिका में नज़र आए थे. द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान वे भारत के लोगों को विश्व युद्ध की खबरें मुहैया करा रहे थे. इसके अलावा वे संस्कृत भी पढ़ना जानते थे. उन्होंने अपनी ऑटोबायोग्राफी में बताया है कि उन्होंने कालीदास की मशहूर अभिजनना शंकुतलम को संस्कृत में पढ़ा हुआ था.

6- उन्हें हिंदी फिल्म इंडस्ट्री का पहला मेथड एक्टर कहा जाता था. वो अपने किरदार को नैचुरल दिखाने के लिए काफी मेहनत करते थे. फिल्म दो बीघा जमीन के लिए उन्होंने कलकत्ता के थर्ड क्लास कंपार्टमेंट में यात्रा की थी ताकि वे गरीब लोगों के माइंडसेट को समझ सकें. उन्होंने इसके अलावा शहर के रिक्शा चलाने वाले यूनियन को भी जॉइन किया था और अपने रोल के लिए काफी समय तक रिक्शा भी चलाया था. इस दौरान वे चोटिल भी हो गए थे.

7- इस फिल्म ने सिल्वर जुबली तक का सफर तय किया और कई अवॉर्ड्स जीते. हालांकि 1955 में मॉस्को में मार्शल स्टालिन ने इस फिल्म को देखा था तो उन्होंने इस फिल्म को सोशलिस्ट डॉक्यूमेंट्री बताया था. स्टालिन की इस बात से बलराज काफी हर्ट हुए थे क्योंकि वे अपने कम्युनिस्ट आइकॉन से बेहतर रिव्यू की उम्मीद कर रहे थे.

8- साल 1970 में उन्होंने पीके वासुदेवन नायर के साथ काम किया और एक लेफ्टिस्ट यूथ संस्था खड़ी की. ये सीपीआई की यूथ विंग थी और बलराज इसके पहले प्रेसीडेंट थे. 1972 में उन्होंने जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में अपनी यादगार स्पीच भी दी थी.

9- बलराज अपनी बेटी शबनम की आकस्मिक मौत से काफी सदमे में थे. उनकी मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई थी. बलराज जब अपनी आखिरी सांसें गिन रहे थे तो उन्होंने अपनी पत्नी को दास कैपिटल की कॉपी लाने को कहा था जिसे कम्युनिस्ट मूवमेंट की बाइबल समझा जाता है. बलराज उस किताब को अपने सिरहाने रख कर चल बसे थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay