एडवांस्ड सर्च

....और गाय-बच्चे का ये किस्सा सुनाते हुए भावुक हो गए मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि मैं एक ऐसी बात बताता हूं जो अभी तक कहीं नहीं बताई, जब मैं छोटा था तब वहां पर हमारे घर के पास एक परिवार रहता था, उस परिवार में कोई संतान नहीं थी, जिसके कारण काफी तनाव रहता था. लेकिन काफी उम्र के बाद एक संतान का जन्म हुआ.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: मोहित ग्रोवर]अहमदाबाद, 29 June 2017
....और गाय-बच्चे का ये किस्सा सुनाते हुए भावुक हो गए मोदी भावुक हो गए पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को गुजरात दौरे पर हैं. इस दौरान उन्होंने साबरमती आश्रम में संबोधन भी किया. मोदी ने यहां गौरक्षा पर लगातार देशभर में हो रही हिंसा पर कड़ा संदेश दिया, तो वहीं लगातार देशभर भीड़ के द्वारा हो रही हिंसा पर भी दुख जताया. पीएम मोदी ने इस दौरान एक वाकया भी सुनाया, जिसे सुनाते वक्त वह काफी भावुक हो गए थे. मोदी ने अपने बचपन का एक किस्सा सुनाया, यहां पढ़ें...

गाय के पैर के नीचे आने से हुई बच्चे की मौत

पीएम मोदी ने कहा कि मैं एक ऐसी बात बताता हूं जो अभी तक कहीं नहीं बताई, जब मैं छोटा था तब वहां पर हमारे घर के पास एक परिवार रहता था, उस परिवार में कोई संतान नहीं थी, जिसके कारण काफी तनाव रहता था. लेकिन काफी उम्र के बाद एक संतान का जन्म हुआ. मोदी बोले कि उस समय एक गाय वहां पर आती थी, और रोजाना कुछ खाकर जाती थी. मोदी ने कहा कि एक बार वहां मौत हो गई और गाय को कुछ खिला नहीं पाए. तब वो बच्चा एक बार गाय के पैर के नीचे आ गया था, और उसकी मौत हो गई.

बच्चे की मौत पर गाय ने शरीर त्यागा

मोदी ने कहा कि दूसरे दिन सुबह ही वो गाय उनके घर के सामने खड़ी हो गई, उसने किसी के घर के सामने रोटी नहीं खाई, उस परिवार से भी रोटी नहीं खाई. उस समय गाय के आंसू लगातार बह रहे थे, उस गाय ने कई दिनों तक कुछ नहीं खा-पी सकी थी. पूरे मोहल्ले के लोगों ने काफी कोशिश की पर गाय ने कुछ नहीं खाया, और बाद में उस गाय ने अपना शरीर त्याग दिया. एक बालक की मृत्यु की पश्चाताप में उस गाय ने ऐसा किया. लेकिन आज लोग गाय के नाम पर ही किसी की हत्या की जा रही है, किसी को कानून अपने हाथ में लेने का हक नहीं है.

देश को अहिंसा के रास्ते पर चलना होगा

मोदी ने कहा कि कहीं एक्सिडेंट होने पर भी लोग एक दूसरे को मारने पर उतारू हो जाते हैं. गाय की रक्षा, गौ की भक्ति महात्मा गांधी, विनोबा जी से बढ़कर कोई नहीं कर सकता है. देश को उसी रास्ते पर चलना होगा. मोदी ने कहा कि विनोबा जी ने जीवन भर गौ रक्षा के लिए काम करते रहे, मैं उनसे भी मिला भी था. पीएम मोदी बोले कि देश को अहिंसा के रास्ते पर चलना ही होगा.

 

 

 

 

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay