एडवांस्ड सर्च

केदारनाथ सिंह और बनारस, उनकी इस कविता का नहीं है कोई जवाब

प्रसिद्ध साहित्यकार और कवि केदारनाथ सिंह का निधन हो गया है. वे लंबे समय से बीमार चल रहे थे और सोमवार रात उन्होंने दिल्ली के एम्स अस्पताल में अंतिम सांस ली.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: मोहित पारीक]नई दिल्ली, 20 March 2018
केदारनाथ सिंह और बनारस, उनकी इस कविता का नहीं है कोई जवाब केदारनाथ सिंह (फोटो साभार- ट्विटर)

प्रसिद्ध साहित्यकार और कवि केदारनाथ सिंह का निधन हो गया है. वे लंबे समय से बीमार चल रहे थे और सोमवार रात उन्होंने दिल्ली के एम्स अस्पताल में अंतिम सांस ली. उन्हें साहित्य के सबसे बड़े सम्मान ज्ञानपीठ और साहित्य अकादमी पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है. इसके अलावा उन्हें मैथिलीशरण गुप्त पुरस्कार, कुमार आशान पुरस्कार (केरल), दिनकर पुरस्कार, जीवनभारती सम्मान (ओडिशा) और व्यास सम्मान जैसे कई प्रतिष्ठित पुरस्कार मिले. उन्होंने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से पढ़ाई की और लंबा समय बनारस में गुजारा. उनके निधन के बाद उनकी कविता बनारस सोशल मीडिया पर खूब शेयर की जा रही है.

बनारस

इस शहर में वसंत

अचानक आता है

और जब आता है तो मैंने देखा है

लहरतारा या मडुवाडीह की तरफ से

उठता है धूल का एक बवंडर

और इस महान पुराने शहर की जीभ

किरकिराने लगती है

जो है वह सुगबुगाता है

जो नहीं है वह फेंकने लगता है पचखियाँ

आदमी दशाश्‍वमेध पर जाता है

और पाता है घाट का आखिरी पत्‍थर

कुछ और मुलायम हो गया है

सीढि़यों पर बैठे बंदरों की आँखों में

एक अजीब सी नमी है

और एक अजीब सी चमक से भर उठा है

भिखारियों के कटोरों का निचाट खालीपन

तुमने कभी देखा है

खाली कटोरों में वसंत का उतरना !

यह शहर इसी तरह खुलता है

इसी तरह भरता

और खाली होता है यह शहर

इसी तरह रोज रोज एक अनंत शव

ले जाते हैं कंधे

अँधेरी गली से

चमकती हुई गंगा की तरफ

इस शहर में धूल

धीरे-धीरे उड़ती है

धीरे-धीरे चलते हैं लोग

धीरे-धीरे बजते हैं घंटे

शाम धीरे-धीरे होती है

यह धीरे-धीरे होना

धीरे-धीरे होने की सामूहिक लय

दृढ़ता से बाँधे है समूचे शहर को

इस तरह कि कुछ भी गिरता नहीं है

कि हिलता नहीं है कुछ भी

कि जो चीज जहाँ थी

वहीं पर रखी है

कि गंगा वहीं है

कि वहीं पर बँधी है नाव

कि वहीं पर रखी है तुलसीदास की खड़ाऊँ

सैकड़ों बरस से -

कभी सई-साँझ

बिना किसी सूचना के

घुस जाओ इस शहर में

कभी आरती के आलोक में

इसे अचानक देखो

अद्भुत है इसकी बनावट

यह आधा जल में है

आधा मंत्र में

आधा फूल में है

आधा शव में

आधा नींद में है

आधा शंख में

अगर ध्‍यान से देखो

तो यह आधा है

और आधा नहीं भी है

जो है वह खड़ा है

बिना किसी स्‍तंभ के

जो नहीं है उसे थामे है

राख और रोशनी के ऊँचे ऊँचे स्तंभ

आग के स्तंभ

और पानी के स्तंभ

धुएँ के

खुशबू के

आदमी के उठे हुए हाथों के स्तंभ

किसी अलक्षित सूर्य को

देता हुआ अर्घ्‍य

शताब्दियों से इसी तरह

गंगा के जल में

अपनी एक टाँग पर खड़ा है यह शहर

अपनी दूसरी टाँग से

बिलकुल बेखबर!

(केदारनाथ सिंह की यह कविता हिंदी समय डॉट कॉम से ली गई है)

'जाना हिंदी की सबसे खौफनाक क्रिया' बताने वाले केदारनाथ चले गए

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay