एडवांस्ड सर्च

Advertisement

क्या बीजेपी के पास मोदी का विकल्प है?

पाणिनि आनंद [Edited BY: अमित रायकवार]नई दिल्ली, 25 May 2017

मोदी का उदय और तीन साल का कामकाज भले ही मोदी के लिए और भाजपा के लिए एक स्वर्णिम समय हो लेकिन इसी पार्टी के लिए सांगठनिक रूप से यह समय कई तरह के सवालों को भी अपने गर्भ में समेटे हुए है. हालांकि जीत के बुखार में भाजपा चमचमाती ही नज़र आएगी लेकिन विचार को व्यक्ति से बड़ा और संगठन को नेतृत्व से बड़ा बताने वाली पार्टी फिलहाल एक व्यक्ति की सत्ता बन गई है. सांगठनिक विकास की दृष्टि से यह बहुत अच्छी स्थिति नहीं है. मोदी के विकल्प के तौर पर जननायक भाजपा के पास हैं नहीं और जिनकी फौज आज पार्टी चला रही है, उनसे मोदी के करिश्मे को दोहरा पाने की उम्मीद बेकार है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay