एडवांस्ड सर्च

DU में हैं ये 6 वॉकेशनल कोर्स, डिग्री लेकर बीच में छोड़ सकेंगे पढ़ाई

दिल्ली विश्वविद्यालय की कॉलेजों ने 6 स्किल आधारित अंडर ग्रेजुएट कोर्स की शुरुआत की है. खास बात ये है कि वॉकेशनल कोर्स कर रहे उम्मीदवार फर्स्ट ईयर (डिप्लोमा) या सेकेंड ईयर (एडवांस डिप्लोमा डिग्री) के बाद पढ़ाई बीच में छोड़ सकते हैं.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: मोहित पारीक]नई दिल्ली, 16 June 2018
DU में हैं ये 6 वॉकेशनल कोर्स, डिग्री लेकर बीच में छोड़ सकेंगे पढ़ाई प्रतीकात्मक फोटो

दिल्ली विश्वविद्यालय की कॉलेजों ने 6 स्किल आधारित अंडर ग्रेजुएट कोर्स की शुरुआत की है. खास बात ये है कि वॉकेशनल कोर्स कर रहे उम्मीदवार फर्स्ट ईयर (डिप्लोमा) या सेकेंड ईयर (एडवांस डिप्लोमा डिग्री) के बाद पढ़ाई बीच में छोड़ सकते हैं. साथ ही कोर्स बीच में छोड़ने वाले छात्रों को कोर्स वापस जॉइन करने और डिग्री खत्म करने की इजाजत भी दी जाएगी. बैचलर ऑफ वॉकेशनल डिग्री प्रोग्राम डीयू की तीन कॉलेजों की ओर से करवाए जा रहे हैं. ये कोर्स यूजीसी की ओर से तैयार किए गए हैं.

यह 6 कोर्स अलग-अलग कॉलेजों की ओर से शुरू किए गए हैं, जिनकी जानकारी इस प्रकार है-

- जिजस एंड मैरी कॉलेज ने दो कोर्स शुरू किए हैं, जिसमें रिटेल मैनेजमेंट और हेल्थकेयर मैनेजमेंट शामिल है.

12वीं के बाद होगी लाखों-करोड़ों की कमाई, करें ये कोर्सेज

- कालिंदी कॉलेज में छात्र दो कोर्स की पढ़ाई कर सकते हैं, जिसमें प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी और वेब डिजाइनिंग शामिल है.

- वहीं रामानुजन कॉलेज में जो दो कोर्स करवाए जाएंगे, उसमें बैंकिंग ऑपरेशन और सॉफ्टवेयर डवलपमेंट आदि का नाम है.

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार कालिंदी कॉलेज के नोडल ऑफिसर पंकज कुमार का कहना है, 'पहले या दूसरे साल के बाद कोर्स छोड़ने वाले छात्र वापस कोर्स की पढ़ाई शुरू कर सकते हैं. वे बाद में भी अपनी डिग्री भी पूरी कर सकते हैं. यह आइडिया उन छात्रों को सहूलियत देगा, जो पढ़ाई से थोड़ा ब्रैक लेना चाहते हैं. सभी कोर्स में 50 सीटें हैं.'

चाहिए मोटी सैलरी तो 12वीं के बाद करें ये कोर्स

कौन कर सकता है अप्लाई

इन कोर्स के लिए सभी विषयों के छात्र अप्लाई कर सकते हैं. हालांकि कुछ कोर्स में वो ही उम्मीदवार अप्लाई कर सकते हैं, जिन्होंने 12वीं मैथ्स से पढ़ाई की हो. आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों को सेंट्रल रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरना होगा, जबकि एडमिशन कट-ऑफ के आधार पर किए जाएंगे. बताया जा रहा है कि इन कोर्स में अकेडमिक ज्ञान के साथ संबंधित क्षेत्र की प्रेक्टिकल नॉलेज भी दी जाएगी. 

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay