एडवांस्ड सर्च

Advertisement

मंथन: 'स्टेशन पर होंगी एयरपोर्ट जैसी सुविधाएं'

मंथन के सातवें सत्र में रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने हिस्सा लिया. आजतक की एंकर श्वेता सिंह को प्रभु ने बताया कि हमारा पूरा ध्यान रेलवे की सुरक्षा, सफाई, सुविधा, क्षमता और आत्मनिर्भता पर है. बुलेट ट्रेन में अभी वक्त लगेगा. हम मौजूदा ट्रेनों की रफ्तार बढाएंगे.
<b>मंथन: 'स्टेशन पर होंगी एयरपोर्ट जैसी सुविधाएं'</b> रेल मंत्री सुरेश प्रभु
मुकेश कुमारनई दिल्ली, 21 May 2015

'मंथन' के सातवें सत्र में रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने हिस्सा लिया. 'आजतक' की एंकर श्वेता सिंह को प्रभु ने बताया कि हमारा पूरा ध्यान रेलवे की सुरक्षा, सफाई, सुविधा, क्षमता और आत्मनिर्भता पर है. बुलेट ट्रेन में अभी वक्त लगेगा. हम मौजूदा ट्रेनों की रफ्तार बढाएंगे.

उन्होंने कहा कि हम एक नई नीति ला रहे हैं, जिसके तहत कोई भी स्टेशन डवलप कर सकता है. इसके लिए टेंडर जारी करके बाकायदा बोली लगाई जाएगी. रेलवे स्टेशन पर एयरपोर्ट की तरह आधुनिक सुविधाएं मिलेंगी.

इस बजट सत्र में नई ट्रेनों की घोषणा नहीं करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि पहले से ही रेलवे ट्रैक पर बोझ ज्यादा है. यूपी-बिहार जैसे आबादी वाले राज्यों से आने वाले रेलवे रूट पर क्षमता से दोगुनी ट्रेनें चल रही है. हमारा पूरा फोकस रेलवे के इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने पर है. हम चाहते हैं कि नई ट्रेनों की घोषणा होने की बजाए, चलाई जाएं.

बुलेट ट्रेन चलाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि हम अभी फि‍जीबिल्‍टी स्‍टडी कर रहे हैं. बुलेट ट्रेन चलाना इतना आसान नहीं है. चीन और जापान ने भी काफी स्टडी करने के बाद ही बुलेट ट्रेन चलाया था. उसके लिए अलग इंफ्रास्ट्रक्चर की जरूरत होगी. फिलहाल मौजूदा ट्रेनों की रफ्तार बढाई जाएगी.

रेलवे की आमदनी कैसे बढे? इस पर सुरेश प्रभु को लालू यादव का सुझाव भी मिला. लालू ने कहा कि रेलवे कमाऊ घोड़ा है. 80 फीसदी व्यापारी सड़क से अपना माल भेज रहे हैं. जबकि वे चाहते हैं कि रेलवे से उनका माल जाए. ऐसे व्यापारियों को रेलवे में शिफ्ट करने की जरूरत है. माल गाड़ियों की रफ्तार बढाने के साथ ही उनके माल की सुरक्षा भी सुनिश्चित करनी पड़ेगी.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay