एडवांस्ड सर्च

Advertisement

'घर वापसी' पर बहस हो सकती है: राम माधव

'आज तक' के मंथन में दसवें सेशन में शुक्रवार में बीजेपी नेता राम माधव ने जम्मू-कश्मीर में बीजेपी और पीडीपी के गठबंधन के सवाल पर खुलकर जवाब दिए. उन्होंने अाज तक के एंकर पुण्य प्रसून वाजपेयी के सवाल पर कहा, 'पीडीपी के साथ हमारा राजनीतिक या वैचारिक गठबंधन नहीं है, सिर्फ गवर्नेंस एलायंस है.
<b>'घर वापसी' पर बहस हो सकती है: राम माधव</b> राम माधव
रोहित गुप्तानई दिल्ली, 22 May 2015

'आज तक ' के मंथन में दसवें सेशन में शुक्रवार में बीजेपी नेता राम माधव ने जम्मू-कश्मीर में बीजेपी और पीडीपी के गठबंधन के सवाल पर खुलकर जवाब दिए. उन्होंने अाज तक के एंकर पुण्य प्रसून वाजपेयी के सवाल पर कहा, 'पीडीपी के साथ हमारा राजनीतिक या वैचारिक गठबंधन नहीं है, सिर्फ गवर्नेंस एलायंस है.

जनादेश का किया सम्मान
राम माधव ने कहा, 'अगर जम्मू-कश्मीर में बीजेपी के बिना सरकार बनती तो वह बिना सही प्रतिनि‍धि‍त्व की सरकार होती या फिर राष्ट्रपति शासन लगता. पहली बार वहां 58 फीसदी वोटिंग हुई और हमने जनादेश का सम्मान करते हुए वहां पीडीपी के साथ सरकार बनाई.'

कश्मीरी पंडितों की वापसी
कश्मीरी पंडितों की वापसी की कश्मीर में वापसी के सवाल पर माधव ने कहा, 'हमने कॉमन मिनिमन प्रोग्राम में कहा कि सम्मान के साथ कश्मीरी पंडितों की वापसी हो. हम उनके साथ वार्ता करने के बाद उनकी वापसी कैसे हो, यह तय करेंगे. मैं पीडीपी का प्रवक्ता नहीं हूं, लेकिन पीडीपी के मैनिफेस्टो में भी कश्मीरी पंडितों की वापसी की बात है. वापसी की प्रक्रिया पर राज्य मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री इस हफ्ते बात करेंगे.'

राम मंदिर
राम मंदिर के सवाल पर राम माधव ने कहा, 'इस मुद्दे पर हम अपने मेनिफेस्टो की सोच पर कायम हैं. राम मंदिर आस्था का सवाल है और यह मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है. कोर्ट से यह मामला सुलझ जाए तो अच्छा है. अगर यह मामला दोनों पक्षों के बीच बातचीत से सुलझ जाए तो भी अच्छा है.'

हिंदू राष्ट्र
हिंदू राष्ट्र के सवाल पर राम माधव ने कहा, 'हिंदू राष्ट्र और विकास अलग-अलग नहीं है. हम इस देश के हर व्यक्ति का सम्मान करते हैं. कोई किसी जाति के कारण छोटा-बड़ा नहीं है. सबकी सुरक्षा और सबका सम्मान, यही हिंदू राष्ट्र के पीछे की सोच है. सभी अपने-अपने धर्म का स्वेच्छा और श्रद्धा से पालन कर सकें, सभी धर्मों के बीच अच्छा माहौल हो, यही हिंदू राष्ट्र की सोच है.

घर वापसी
राम माधव बोले, 'अगर जरूरत हो तो घर वापसी पर बहस होनी चाहिए. स्वेच्छा से व्यक्ति अपना धर्म चुने या बदले. किसी प्रलोभन या दबाव में धर्मांतरण न हो. हमारी सरकार की प्राथमिकता देश में विकास और शांति है.'

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay