एडवांस्ड सर्च

जब हमारी बोली का मखौल उड़ाया गया...

जानिए एक ऐसे लड़की की कहानी जिसे दिल्ली आने के बाद एहसास हुआ कि वह गलत हिन्दी बोलती है.

Advertisement
स्नेहानई दिल्ली, 16 June 2016
जब हमारी बोली का मखौल उड़ाया गया... Language Problem

सावन का महीना पवन करे सोर...सोर नहीं बाबा शोर. जब भी यह गाना गुनगुनाती हूं या कहीं भी सुनती हूं तो चेहरे पर एक अजीब सी मुस्कुराहट आ जाती है. बिहार के बेगूसराय से दिल्ली जब पत्रकारिता की पढ़ाई के लिए आई थी तो एक क्लास में असवाल पूछने के दौरान अपने प्रोफेसर से मैंने कहा, 'इस बात पर किसी को पीरा नहीं होनी चाहिए'. वो हल्के से मुस्कुराए और चुप रह गए, बिना जवाब दिए हुए. बात आई-गई हो गई.

एक दिन क्लास में अचानक ही किसी दोस्त ने कह दिया घोड़ा बोलो
मैंने कहा: घोरा
अरे घोरा नहीं,  घोड़ा...
दो तीन बार लगातार बुलवाने के बाद मुझे गुस्सा आ गया. मैंने चिढ़ते हुए कहा कि तुम्हें दिक्कत क्या है घोरे से...आसपास के सारे लोग ठठाकर हंसने लगे. अचानक खुद एहसास हुआ कि मैं कुछ गलत बोल रही हूं. फिर चुपके से अकेले में दोस्त को बुलाकर कहा कि थोड़ी प्रैक्टिस करवा दो, हमारे यहां ऐसे ही बोलते हैं. दरअसल हमारी जुबान में 'ड़' बोला ही नहीं जाता और आज तक न ही किसी शिक्षक ने टोका और न ही घरवालों ने...प्लीज, मजाक मत उड़ाओ...ठीक करवा दो...

उसने कहा, 'मैं बोलते समय ही तुम्हें बता दिया करूंगा कि तुम गलत बोल रही हो, ऐसा लगातार करने के बाद तुम ठीक बोलने लगोगी लेकिन मजाक नहीं उड़ाउंगा...इसकी गारंटी नहीं लूंगा.' इस बात को महीनों गुजर गए. एक बार नौकरी के सिलसिले में इंटरव्यू देने के दौरान एक महाशय ने कहा, 'तुम सारे बिहारियों की यही प्रॉब्लम है, हिंदी भी ठीक से बोल नहीं पाते.'. अचानक मेरे अंदर बिहारी अस्मिता हिलोरें लेने लगी लगभग मैंने चीखते हुए कहा था कि मेरी गलती की वजह से पूरे बिहार को बदनाम मत कीजिए, बिहार से बड़े-बड़े साहित्यकार और हिंदी विद्वान निकले हैं और लाखों लोग ऐसे हैं जो सही बोलते हैं. इंटरव्यू देने के बाद अपने आप से भन्नाते हुए कहा कि किसी ने बचपन में मेरी इस गलती पर टोका क्यों नहीं...लोगों का क्या है वो तो गलतियों पर मजाक उड़ाएंगे ही. अपनी इस गलती को हर बार ठीक करने की भी कोशिश करती हूं लेकिन ऐसा हो नहीं पाता. क्षेत्रीय प्रभाव आज भी तारी है. जब भी तेज बोलने लगती हूं तो यही सारी गलतियां दोहराने लगती हूं.

एक बार परीक्षा के सिलसिले में शेयर्ड ऑटो से फरीदाबाद आ रही थी. गर्मी में ऐसे भी मेरे दिमाग का पारा एक या दो डिग्री सेल्सियस नेचुरल तापमान से ज्यादा ही रहता है. और अगर कोई मेरी दुखती रग पर हाथ डाल दे तो मेरा मन उसका मुंह तोड़ देने को करता है, (हालांकि मैं हमेशा ही हिंसा के खिलाफ रही हूं इसलिए सिर्फ गुस्सा करके रह जाती हूं, वैसे गुस्सा भी नहीं आना चाहिए) ऑटो में बैठे सारे लड़के और लड़कियां यूपी या दिल्ली के थे और लगातार अपने बिहारी दोस्तों का मजाक उनकी भाषा को लेकर उड़ा रहे थे. प्रॉब्लम यही ड़, र वाली. मैं बार-बार नोटबुक से सर उठाकर उनकी तरफ देख रही थी. मन कर रहा था कि टोक दूं कि किसी के भाषा को लेकर इस तरह से मजाक बनाना सही नहीं है. लेकिन बस ऐसे ही बात को जाने दिया. एक घंटे के पूरे सफर के दौरान बस झल्लाती रही, ऑटो से उतरकर उन्हें लगभग घूरते हुए मैंने जोर से बोला, 'तुम दिल्लीवाले न जाने भर दिन हिन्दी के कितने ही शब्द गलत बोलते हो, उसका तुम्हें अंदाजा भी नहीं होता. मेरे आगे बढ़ते ही उन्होंने बोला कि अरे बिहारी को बुरा लग गया.'

मेरे मन में अचानक ख्याल आया कि मुझे इनसे मुंह लगाना ही नहीं चाहिए था. अगर हम गलत बोलते हैं तो इसे स्वीकार करने की भी क्षमता होनी चाहिए. लेकिन सवाल बस यह था कि किसी का इस तरीके से मजाक उड़ाना कहां तक सही है? कई बार बुरे कारणों के लिए बार-बार बिहारी शब्द सुनकर अब बुरा नहीं लगता बल्कि लोगों के मानसिक दिवालियापन पर ही तरस आ जाता है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay