एडवांस्ड सर्च

होली के मौके पर आधुनिक गिरमिटिया मजदूर का दिली दर्द...

जब पूरी दुनिया खुद को रंगों में सराबोर कर रही हो. लोग जोगीरा के स्टेटस सोशल मीडिया पर लिख रहे हों. होली खेलते हुए अपनी तस्वीरें फेसबुक पर डाल रहे हों और आप उन सभी को देख कर मन ही मन कुढ़ रहे हों. इस बार मन की बात नहीं, दिल का दर्द...

Advertisement
विष्णु नारायण [Edited By: आरती मिश्रा]नई दिल्ली, 28 February 2017
होली के मौके पर आधुनिक गिरमिटिया मजदूर का दिली दर्द... Holi Celebrations

पहले ऐसा कभी-कभार होता था कि किसी पर्व-त्योहार पर हम घर नहीं जाते थे. अब ऐसा अक्सर होता है कि हम घर से बाहर होते हैं और पर्व-त्योहार बीत जाते हैं. हम धीरे-धीरे बड़े होते जा रहे हैं और उससे भी अधिक तेजी से अपने जड़ों से दूर होते जा रहे हैं. अब सपनों में गांव की पगडंडी, आम-जामुन के बगीचे, ताल-पोखर और डुगडुगी बजाते मदारी नहीं आते. अब सपने भी सेलेक्टिव हो गए हैं.

नौकरी-सैलरी-अप्रेजल-प्रमोशन ने जिंदगी में चरस बो दिया है. बड़े होने के चक्कर ने बड़ा गड़बड़झाला किया है. बढ़ती जिम्मेदारियों ने हमें कितना गैरजिम्मेदाराना बना दिया है. अब तो भांग भी सिर पर नहीं चढ़ती. नौकरी का नशा ही कुछ इस कदर सिर चढ़ गया है कि उतारे नहीं उतरता. पहले पढ़ते-लिखते थो तो ऐसा सोचते थे कि पढ़-लिख कर घर पर ही रहेंगे. अब ज्यादा पढ़-लिख लिया है गांव-घर ही दूर होता जा रहा है. गांव-घर की लाइफ बेहद स्लो लगने लगी है और हम महानगरों की फास्ट पेस में खुद को एडजस्ट करने की जुगत में खर्च हुए जा रहे हैं.

आखिर, गांव-कस्बे, मां-बाबूजी, भैया-भाभी, से दूर एक किराए के कमरे में रात के दौरान छत से लटके पंखे को तकते रहने में कोई मजा है भला. पहले सोचते थे कि पैसा कमा कर एक रेडियो खरीदेंगे और हर दिन सुबह-शाम समाचार सुनेंगे. अब स्मार्ट फोन साथ है, हम सोशल मीडिया की आभासी दुनिया पर हमेशा मौजूद हैं और वास्तविक दुनिया से कटते चले जा रहे हैं. अब जब हम सोशल मीडिया पर होते हैं तो सैकड़ों साथियों को ऑनलाइन देखने के बाद भी किसी से बात करने का मन नहीं करता.

किसी की तस्वीरें और स्टेटस पढ़ने का मन नहीं करता. पहले 2G डाटा भरवा लेने पर लोगों से ऐसे चप कर चैटिंग करते थे कि जैसे इसके बाद वे मिलेंगे ही नहीं. अब 3G स्पीड भी लुभा नहीं पाता. पहले एक चैनल आता था और उस पर आने वाली कोई फिल्म नहीं छूटती थी. अब लेटेस्ट फिल्में आती रहती हैं और हम उन्हें छोड़ते चले जाते हैं. बचपन में हर त्योहार पर नए कपड़े चाहिए होते थे, अब खुद कमा रहे हैं. अकाउंट में हमेशा हजारों रुपये होते हैं और हम वही पुरानी शर्ट और जींस हर मौके-बेमौके पहन लेते हैं.

अपने आप को जड़ से जुड़ा हुआ महसूस करने के लिए कभी गमछा लपेट लेते हैं तो कभी कुर्ता और चप्पल पहन कर ही मॉल में घूमने चले जाते हैं. महानगरों में लोग ऐसे देखते हैं जैसे हम किसी और ग्रह के प्राणी हों, मगर वे क्या जानें कि हम किस फेज से गुजर रहे हैं. एक त्योहार के मौके पर घर से दूर होने का दर्द क्या होता है.

तो ऐसे सारे आधुनिक गिरमिटिया मजदूरों को दूसरे गिरमिटिया मजदूर की ओर से रंगपर्व की हार्दिक शुभकामनाएं.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay