एडवांस्ड सर्च

शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक हैं ओंकारेश्वर

ओंकारेश्वर देश के 12 ज्योर्तिलिंगों में से एक है और नर्मदा तथा कावेरी नदियों के संगम पर स्थित है. इनके मिलने से जो जगह बनी दिखती है उसका आकार एकदम ऊं सरीखा है. ज्योर्तिलिंग यहां के श्रीओंकार मंधाता मंदिर में स्थित है. इस मंदिर से ही श्रद्धालु इस द्वीप के चारों ओर परिक्रमा करते हैं.

Advertisement
aajtak.in
आज तक वेब ब्यूरोनई दिल्ली, 01 November 2013
शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक हैं ओंकारेश्वर ओंकारेश्वर

ओंकारेश्वर देश के 12 ज्योर्तिलिंगों में से एक है और नर्मदा तथा कावेरी नदियों के संगम पर स्थित है. इनके मिलने से जो जगह बनी दिखती है उसका आकार एकदम ऊं सरीखा है. ज्योर्तिलिंग यहां के श्रीओंकार मंधाता मंदिर में स्थित है. इस मंदिर से ही श्रद्धालु इस द्वीप के चारों ओर परिक्रमा करते हैं.

ओंकारेश्वर प्राचीन मंदिरों जैसे मामलेश्वर मंदिर, सिद्धांत मंदिर और गौरी सोमनाथ मंदिर का घर है. मुख्य भूमि पर 10वीं सदी में निर्मित मामलेश्वर मंदिर वास्तव में बहुत से छोटे मंदिरों का परिसर है.

यह नर्मदा नदी के दक्षिण किनारे पर मंधाता मंदिर की विपरीत दिशा में है. मामलेश्वर मंदिर में मौजूद एक प्राचीन संस्कृति लिखित शिलालेख इसके वास्तविक ज्योर्तिलिंग होने का दावा करता है.

ओंकारेश्वर कैसे पहुंचें
हवाई मार्गः करीबी हवाई अड्डा इंदौर (76 किमी). यहां मुंबई, दिल्ली, ग्वालियर और भोपाल से रेगुलर फ्लाइट आती हैं.

रेल मार्गः करीबी प्रमुख रेलवे स्टेशन इंदौर

सड़क मार्गः ओंकारेश्वर स्थानीय बसों से इंदौर, उज्जैन और खंडवा से अच्छी तरह जुड़ा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay