एडवांस्ड सर्च

ओरछाः खूबसूरती और भक्ति का 'संगम'

इस मौसम में ओरछा घूमने का अलग ही मजा है. झांसी से महज 16 किलोमीटर दूर ओरछा महलों, मंदिरों और बेतवा नदी के लिए जाना जाता है. ग्‍वालियर से इसकी दूरी 120 किलोमीटर है. कभी बुंदेलखंड की राजधानी रह चुकी यह जगह आज छोटा सा शहर है.

Advertisement
महुआ बोसओरछा, 01 November 2013
ओरछाः खूबसूरती और भक्ति का 'संगम' ओरछा किला

इस मौसम में ओरछा घूमने का अलग ही मजा है. झांसी से महज 16 किलोमीटर दूर ओरछा महलों, मंदिरों और बेतवा नदी के लिए जाना जाता है. ग्‍वालियर से इसकी दूरी 120 किलोमीटर है. कभी बुंदेलखंड की राजधानी रह चुकी यह जगह आज छोटा सा शहर है.

शहर के संपन्‍न सांस्कृतिक धरोहरो को देखना एक अलग ही अनुभव देगा. ओरछा के महल के किनारे से बहती बेतवा नदी को देखकर मन खुश हो जाएगा. यहां का मुख्‍य आकर्षण जहांगीर महल, राजा महल स्‍टैंड, परवीन महल, चतुर्भुज मंदिर, लक्ष्‍मी नारायण मंदिर और हनुमान मंदिर है.

दर्शनीय स्‍थल-
ओरछा महल किला: इसे ओरछा के पहले शासक रुद्रप्रताप ने बनवाया था. किला परिसर में कई इमारतें हैं जिन्‍हें समय-समय पर कई अलग-अलग लोगों ने बनवाया था.
जहांगीर महल: यह आयतकार चबूतरे पर बना है और इसके हर कोने पर गोलाकार गुंबद है. इसकी खूबसूरत सीढीयों और गेट के लिए यह महल प्रसिद्ध है. जो मुगल बुंदेला दोस्ती का प्रतीक है. कहा जाता है कि बादशाह अकबर ने अबुल फज़ल को शहजादे सलीम (जहांगीर) को काबू करने के लिए भेजा था, लेकिन सलीम ने बीर सिंह की मदद से उसका कत्ल करवा दिया. इससे खुश होकर सलीम ने ओरछा की कमान बीर सिंह को सौंप दी थी. वैसे, ये महल बुंदेलाओं की वास्तुशिल्प के प्रमाण हैं. खुले गलियारे, पत्थरों वाली जाली का काम, जानवरों की मूर्तियां, बेलबूटे जैसी तमाम बुंदेला वास्तुशिल्प की विशेषताएं यहां साफ देखी जा सकती हैं.
शीश महल: इसे पैलेस ऑफ मिरर भी कहा जाता है. इसका आर्किटेक्‍चर देखने लायक है.
छतरी: यहां बेतवा नदी के किनारे कंचन घाट पर कई छतरियां हैं जो बुंदेलखंड के शासकों के वैभव की कहानी बताता है.
राजा राम मंदिर: यह मंदिर चौकोर चबूतरे पर बना है. यह मंदिर ओरछा का सबसे लोकप्रिय और महत्वपूर्ण मंदिर है. यह भारत का एकमात्र मंदिर है जहां भगवान राम को राजा के रूप में पूजा जाता है. माना जाता है कि राजा मधुकर को भगवान राम ने स्वप्न में दर्शन दिए और अपना एक मंदिर बनवाने को कहा. राजा ने श्रीराम के जन्मस्थल अयोध्या से उनकी मूर्ति मंगवाई और उसे मंदिर का निर्माण होने तक महल में रखवा दिया. बाद ने राम ने मूर्ति महल से न हटाने को निर्देश दिया. इस प्रकार महल को ही भगवान राम का मंदिर बना दिया गया.

कैसे पहुंचा जाए-
वायु मार्गः ओरछा का नजदीकी हवाई अड्डा खजुराहो है जो 163 किमी. की दूरी पर है। यह एयरपोर्ट दिल्ली, वाराणसी और आगरा से नियमित फ्लाइटों से जुड़ा है.
रेल मार्गः झांसी ओरछा का नजदीकी रेल मुख्यालय है. दिल्ली, आगरा, भोपाल, मुम्बई, ग्वालियर आदि प्रमुख शहरों से झांसी के लिए अनेक रेलगाड़ियां हैं. वैसे ओरछा तक भी रेलवे लाइन है जहां पैसेन्जर ट्रैन से पहुंचा जा सकता है.
सड़क मार्गः ओरछा झांसी-खजुराहो मार्ग पर स्थित है. नियमित बस सेवाएं ओरछा और झांसी को जोड़ती हैं. दिल्ली, आगरा, भोपाल, ग्वालियर और वाराणसी से यहां से लिए नियमित बसें चलती हैं.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay