एडवांस्ड सर्च

चेकरोवोलु स्वुरो: मेरे जीतने से कई के भाग्‍य खुलेंगे

''मेरा निशाना गोल्ड मेडल जीतने पर है, क्योंकि इससे मेरी तरह की कई और नगा लड़कियों के सपने और आकांक्षाएं जाग जाएंगी.''

Advertisement
आजतक वेब टीमनई दिल्‍ली, 30 July 2012
चेकरोवोलु स्वुरो: मेरे जीतने से कई के भाग्‍य खुलेंगे चेकरोवोलु स्वुरो

चेकरोवोलु स्वुरो, 30 वर्ष
तीरंदाजी, वूमंस रिकर्व
दीमापुर, नगालैंड
उनकी कहानी तीरंदाज चेकरोवोलु स्वुरो से पहले पूर्वोत्तर के नगालैंड राज्‍य ने मात्र एक ओलंपियन देश को दिया था. वे थे तलिमेरेन अओ, जिन्होंने 1948 के लंदन ओलंपिक खेलों में भारतीय फुटबॉल टीम का नेतृत्व किया था, जो भारत का पहला अधिकृत ओलंपिक खेल भी था. पूरे 64 साल बाद, एक और नगा खिलाड़ी भारत का प्रतिनिधित्व कर रही है, और 64 साल बाद ही ओलंपिक खेल वापस लंदन में हो रहे हैं.

अपनी तस्वीर अखबार में छपवाने की जबरदस्त इच्छा ने स्वुरो को 13 वर्ष की उम्र में तीरंदाजी की ओर प्रेरित किया. वे कोरियाई विश्व चैंपियन ली वांग वू से प्रशिक्षण ले रही हैं. वे कहती हैं, ''वे कभी भी हमारे साथ अपने से दोयम जैसा व्यवहार नहीं करते और हमारी खूबियों का सम्मान करते हैं, इससे हमारे आत्मविश्वास में इजाफा होता है.'' तीरंदाजों के लिए सबसे बड़ी समस्या उपकरण जुटाने की होती है और इसका इंतजाम करने के लिए स्वुरो मित्तल चैंपियंस ट्रस्ट की आभारी हैं.

खास है वे पिछले 17 साल से अपनी तकनीक निखार रही हैं, जो तीरंदाजी जैसे सटीक खेल के लिए अनिवार्य शर्त होती है.

चुनौतियां उनका 2008 के बीजिंग ओलंपिक में भाग लेना तय था, लेकिन खराब फॉर्म के कारण वे नहीं जा सकीं. स्वुरो का मुकाबला बेहतरीन खिलाड़ियों से होगा, जिनमें बीजिंग में दो गोल्ड मेडल जीतने वाली कोरिया की ओके-ही युन जैसी चैंपियन शामिल हैं.

मिशन ओलंपिक पिछले साल तूरिन में वर्ल्ड आर्चरी चैंपियनशिप में वे अपनी मौजूदा साथी खिलाड़ियों-दीपिका कुमारी और बोम्बेला देवी-के साथ जोड़ी बनाकर छा गई थीं. उन्होंने 54 अंक अर्जित किए और सिल्वर मेडल जीता था. 54 देशों के लिए दी गई विश्व रैंकिंग में उनकी टीम दूसरे स्थान पर है. लंदन ओलंपिक में उन्हें कोई न कोई मेडल हासिल कर लेने का भरोसा है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay