एडवांस्ड सर्च

Advertisement

तीरंदाजों ने किया कोच लिम्बा राम का अपमान!

भारतीय तीरंदाजी कोच लिम्बा राम शनिवार चुपचाप राष्ट्रीय टीम छोड़कर चले गये और ऐसा इसलिये नहीं हुआ कि टीम का प्रदर्शन लंदन ओलंपिक में लचर रहा था, बल्कि आरोप लगाया जा रहा है कि शीर्ष तीरंदाज दीपिका कुमारी और जयंता तालुकदार ने उनका अपमान किया था.
तीरंदाजों ने किया कोच लिम्बा राम का अपमान! दीपिका कुमारी
आजतक वेब ब्यूरो/भाषाकोलकाता, 11 August 2012

भारतीय तीरंदाजी कोच लिम्बा राम शनिवार चुपचाप राष्ट्रीय टीम छोड़कर चले गये और ऐसा इसलिये नहीं हुआ कि टीम का प्रदर्शन लंदन ओलंपिक में लचर रहा था, बल्कि आरोप लगाया जा रहा है कि शीर्ष तीरंदाज दीपिका कुमारी और जयंता तालुकदार ने उनका अपमान किया था.

हालांकि तालुकदार ने इस आरोप से इंकार किया है. टीम सूत्र के अनुसार दीपिका और तालुकदार का लिम्बा से झगड़ा हुआ जिसके बाद इन तीरंदाजों ने कोच से बात करना बंद कर दिया.

दीपिका प्रतिक्रिया के लिये उपलब्ध नहीं थी, लेकिन तालुकदार ने इन आरोपों को खारिज करत हुए कहा, ‘ये सब झूठ है. शिविर में सब कुछ ठीक था.’ भारतीय तीरंदाज लंदन खेलों की टीम और व्यक्तिगत स्पर्धा में क्वार्टरफाइनल चरण से आगे नहीं जा सके थे.

दुनिया की नंबर एक तीरंदाज दीपिका को पदक की प्रबल दावेदार माना जा रहा था लेकिन वह लार्डस क्रिकेट मैदान पर फ्लाप रहीं. लिम्बा का अनुबंध ओलंपिक के बाद समाप्त हो गया, वह भी प्रतिक्रिया के लिये उपलब्ध नहीं थे क्योंकि वह राजस्थान स्पोर्ट्स परिषद में खेल अधिकारी के पद से जुड़ने के लिये सुबह ही जयपुर रवाना हो गये थे.

सू़त्रों ने दावा किया कि लिम्बा तीरंदाजों के व्यवहार से काफी परेशान थे और तीन बार का यह ओलंपियन लंदन ओलंपिक में टीम के साथ जाने का इच्छुक नहीं था.

सूत्र ने कहा, ‘शीर्ष तीरंदाज तालुकदार ने अमेरिका में विश्व कप के तीसरे चरण से ही उनसे बात करना बंद कर दिया था जबकि अन्य उनकी सलाह नहीं मान रहे थे.’

उसने कहा, ‘तालुकदार ने कोच से झगड़ा किया था और उन्हें चुनौती दी थी. लिम्बा तीरंदाजी संघ के महासचिव परेश नाथ मुखर्जी के कहने पर लंदन गये थे.’

शिविर में ऐसा माहौल हो गया था कि तीरंदाजी संघ को आपसी बातचीत के लिये सहायक कोच सेना के सूबेदार रवि शंकर की मदद लेनी पड़ी थी.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay