एडवांस्ड सर्च

देश को सुशील कुमार से गोल्‍ड मेडल की उम्‍मीद

लंदन ओलंपिक में भारत की आखिरी उम्मीद अब पहलवान सुशील कुमार हैं. सुशील रविवार को 66 किलो वर्ग में अपना पहला बाउट खेलने उतरेंगे और इस बार वो 2008 ओलंपिक में जीते कांस्य को गोल्ड में बदलने को बेकरार होंगे.

Advertisement
aajtak.in
आजतक वेब ब्‍यूरोनई दिल्‍ली, 13 August 2012
देश को सुशील कुमार से गोल्‍ड मेडल की उम्‍मीद सुशील कुमार

लंदन ओलंपिक में भारत की आखिरी उम्मीद अब पहलवान सुशील कुमार हैं. सुशील रविवार को 66 किलो वर्ग में अपना पहला बाउट खेलने उतरेंगे और इस बार वो 2008 ओलंपिक में जीते कांस्य को गोल्ड में बदलने को बेकरार होंगे.

पूरे देश की नजरें अब सुशील कुमार पर हैं और वही हैं भारत के लिए 30वें ओलंपिक में पदक जीतने की आखिरी उम्मीद. सुशील कुमार से इंडिया गोल्ड मांग रहा है और सुशील ने भी कहा है, 'मैं पदक जीतने की पूरी कोशिश करूंगा.' सुशील की कोशिश पर पूरे देश का यकीन है.
इतना यकीन कि शनिवार को जब योगेश्‍वर दत्त ने कांस्‍य पदक जीता तो लोग इसे भी सुशील के लिए शुभ संकेत मानने लगे.

सुशील से ये आस इसलिए क्योंकि देश और विदेश में सुशील ने अपनी छाप छोड़ी है. वो चार बार कॉमनवेल्थ चैंपियन रह चुके हैं. सुशील ने एक बार एशियन चैंपियनशिप भी जीती है. उन्होनें 2010 में कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड जीता था.

इनके साथ सुशील ने ऐसे भी झंडे गाड़े हैं कि दुनिया उनका सज़दा करती है. सुशील की यही ताकत उन्हें भारत की आखिरी उम्मीद बनाती है. वो भारत की शान भी हैं तभी उन्हें ओपनिंग सेरेमनी में भारतीय दल की अगुवाई करने के लिए चुना गया.

हाल में सुशील की पीठ में चोट लगी थी. जिसकी वजह से वो 2010 एशियन गेम्स में हिस्सा नहीं ले सके. लेकिन अब वो फिट हैं और तैयार भी. सबसे बढ़कर ओलंपिक के कांस्य को गोल्ड में बदलने को बेकरार भी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay