एडवांस्ड सर्च

Advertisement

किसका होगा राजतिलक: चुनावी मैदान में चीन से दोस्ती पर सवाल-जवाब

निशांत चतुर्वेदी [Edited By अमित रायकवार]नई दिल्ली, 14 March 2019

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में आतंकी घोषित होने से मसूद अजहर तो बच गया लेकिन भारत में राजनीतिक दलों को चुनावी गोल करने का नया मुद्दा हाथ लग गया. बीजेपी और कांग्रेस में अब इस बात पर तूतू-मैंमैं हो रही है कि चीन का बड़ा दोस्त कौन है. चुनावी मौसम में हर चीज फायदे-नुकसान के नजरिए से देखी जाती है. मसूद अजहर के मामले में भी ऐसा ही हो रहा है. जिस मुद्दे पर देश को एकजुट दिखना चाहिए उसी मुद्दे पर तूतू-मैंमैं हो रही है.

Masood Azhar escaped being declared a terrorist by the United Nations Security Council, but here in India political parties got a new topic for blaming each other. Now BJP and Congress are blaming each other for befriending China. In this season, ahead of Lok Sabha polls, everything is becoming a issue of debate. This is also with the case of Masood Azhar. When there should be shown unity over this issue political parties are enjoying verbal duel.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay