एडवांस्ड सर्च

Advertisement

राबड़ी को हरवाने वाले 'लालू यादव' फिर मैदान में, सारण से चुनाव लड़ेंगे

सुजीत झा [ Edited By: आदित्य बिड़वई ]
15 April 2019
राबड़ी को हरवाने वाले 'लालू यादव' फिर मैदान में, सारण से चुनाव लड़ेंगे
1/8
आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव भले ही जेल में हैं और पिछले 40 सालों में पहली बार वो इस लोकसभा चुनाव के प्रचार में भी हिस्सा नही ले पा रहे हैं, लेकिन बिहार में एक और लालू प्रसाद यादव उन्हीं के लोकसभा क्षेत्र सारण से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में ताल ठोक रहे हैं.
राबड़ी को हरवाने वाले 'लालू यादव' फिर मैदान में, सारण से चुनाव लड़ेंगे
2/8
ये वही लालू प्रसाद यादव हैं जो 2014 के लोकसभा चुनाव में राबड़ी देवी के खिलाफ निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़े थे. उन्होंने उतना ही वोट पाया था जितने से राबड़ी देवी हारीं, यानि दस हजार, बाद में आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने एक सभा में स्वीकार भी किया था कि उन्हीं के नाम के व्यक्ति ने राबड़ी देवी को हरवा दिया.
राबड़ी को हरवाने वाले 'लालू यादव' फिर मैदान में, सारण से चुनाव लड़ेंगे
3/8
निर्दलीय लालू प्रसाद यादव ने बीए तक पढ़ाई की है और खेती बाड़ी का काम करते हैं. ये 2001 से लगातार चुनाव लड़ रहे हैं. ये वार्ड से लेकर राष्ट्रपति का तक चुनाव लड़ चुके हैं. लेकिन एक बार भी जीते नहीं. इनका कहना है कि जब तक जीतेंगे नहीं तब तक चुनाव लड़ते रहेंगे.
राबड़ी को हरवाने वाले 'लालू यादव' फिर मैदान में, सारण से चुनाव लड़ेंगे
4/8
लालू प्रसाद यादव नाम होने से इनका काफी फायदा हो रहा है. हालांकि, ये मानने को तैयार नहीं हैं लेकिन जनता के काम के लिए जब ये किसी अधिकारी को फोन पर कहते हैं कि लालू प्रसाद यादव बोल रहा हूं तो अधिकारी तुरंत फोन पर आ जाता है और काम हो जाता है. जाहिर है कि ये नाम का ही असर है.
राबड़ी को हरवाने वाले 'लालू यादव' फिर मैदान में, सारण से चुनाव लड़ेंगे
5/8
आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव चारा घोटाला मामले में 2013 से ही सजायाफ्ता हैं इसलिए वो चुनाव नहीं लड़ सकते. लेकिन 2014 के लोकसभा और 2015 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने जमकर प्रचार किया था. लेकिन इस चुनाव में जेल में होने के कारण वो प्रचार भी नही कर पा रहे हैं.
राबड़ी को हरवाने वाले 'लालू यादव' फिर मैदान में, सारण से चुनाव लड़ेंगे
6/8
पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने लालू यादव की जमानत याचिका भी खारिज कर दी जिससे इस लोकसभा में उनकी उपस्थिति का रास्त भी बंद हो गया. लालू प्रसाद यादव ने अपने संसदीय जीवन की शुरूआत सारण लोकसभा से ही 1977 से शुरू की थी. उसके बाद 1989 में फिर सारण यानि छपरा लोकसभा से चुने गए और 1990 में बिहार के मुख्यमंत्री भी बन गए. लालू प्रसाद यादव 2004 और 2009 में भी सारण से सांसद रहे.
राबड़ी को हरवाने वाले 'लालू यादव' फिर मैदान में, सारण से चुनाव लड़ेंगे
7/8
लालू प्रसाद यादव का कहना है कि आरजेडी के रहने और नहीं रहने से उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता. उनका कहना है कि मेरा लालू प्रसाद यादव से कोई लेना देना नहीं है. हम जनता की सेवा करते हैं और उनकी राजनीति से बिल्कुल प्रभावित नही हैं. सारण की जनता भी जान चुकी है.
राबड़ी को हरवाने वाले 'लालू यादव' फिर मैदान में, सारण से चुनाव लड़ेंगे
8/8
निर्दलीय लालू प्रसाद यादव 2001, 2006 और 2011 में नगर पंचायत मढौरा से वार्ड कमिश्नर का चुनाव लड़े और चुनाव हार गए. 2014 में सारण लोकसभा क्षेत्र से निर्दलीय चुनाव लड़े और 10 हजार वोट पाये. 2015 में मढौरा से विधानसभा चुनाव लड़े और हार गए 2015 में एमएलसी का चुनाव लड़े और वो भी हारे. इसके बाद 2017 में राष्ट्रपति के लिए नामांकन किया लेकिन नामांकन रदद हो गया और अब फिर 2019 में लोकसभा का चुनाव सारण से लड रहें है.
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay