एडवांस्ड सर्च

Advertisement

ये हैं वो 5 देश जहां रंग नहीं मिट्टी-सड़े अंडों से मनाई जाती है होली

aajtak.in [Edited By:मंजू ममगाईं]
15 March 2019
ये हैं वो 5 देश जहां रंग नहीं मिट्टी-सड़े अंडों से मनाई जाती है होली
1/6
देशभर में लोग होली के जश्न की तैयारियों में जुट चुके हैं. इस साल होली का उत्सव 21 मार्च को मनाया जाएगा. लोग इस दिन एक दूसरे को रंग लगाकर प्यार का संदेश आपस में बांटते हैं. पर क्या आप जानते हैं,कई देश ऐसे भी हैं जहां लोग होली जैसे त्योहार को रंग-बिरंगे कलर के साथ नहीं बल्कि मिट्टी-सड़े अंडों को एक दूसरे पर फेंककर मनाते हैं. आइए जानते हैं आखिर कौन से हैं वो ऐसे देश.
ये हैं वो 5 देश जहां रंग नहीं मिट्टी-सड़े अंडों से मनाई जाती है होली
2/6
ला टोमाटीना स्पेन
स्पेन में बनोल के वालेंसिया नगर में होली की तरह एक फेस्टिवल मनाया जाता है, उसमें लोग रंग की जगह एक-दूसरे पर टमाटर फेंकते हैं. बनोल में यह त्योहार साल 1945 से मानया जा रहा है जो अगस्त माह के हर आखिरी बुधवार को मनाया जाता है. हालांकि अब इस त्योहार को स्पेन के अलावा भी कई कई दूसरे देश भी मनाने लगे हैं।
ये हैं वो 5 देश जहां रंग नहीं मिट्टी-सड़े अंडों से मनाई जाती है होली
3/6
मिशिगन्स एनुअल मड डे, अमेरिका-
अमेरिका के वेस्टलैंड में वेन काउंटी में हर साल जुलाई में 'मड डे' का आयोजन किया जाता है। इस आयोजन में हर साल 12 साल तक के हजारों बच्चे हिस्सा लेते हैं। जिसमें उनके लिए मिट्टी की दौड़ से लेकर कई मजेदार प्रतियोगिताएं रखी जाती हैं।
ये हैं वो 5 देश जहां रंग नहीं मिट्टी-सड़े अंडों से मनाई जाती है होली
4/6
ला मेरेंगाडा, स्पेन
स्पेन के बार्सिलोना के नजदीक 'विलानोवा इ ला जलजु पोर्ट' पर यह फेस्टिवल 250 सालों से हर साल फरवरी महीने में मनाया जाता है। इस त्योहार को 'कैंडी फाइट फेस्टिवल' के नाम से भी पहचाना जाता है. इसमें अंडे और क्रीम से बनी पेस्ट्री क्रीम को एक-दूसरे पर फेंका जाता है।
ये हैं वो 5 देश जहां रंग नहीं मिट्टी-सड़े अंडों से मनाई जाती है होली
5/6
गार्मा फेस्टिवल
ऑस्ट्रेलिया की नॉर्थ-ईस्ट अर्नहेम लैंड पर वहां के योलगु आदिवासी रंग-बिरंगी पोशाक पहन और शरीर पर रंग लगाकर अपनी सांस्कृतिक विरासत का प्रदर्शन करते हैं.
ये हैं वो 5 देश जहां रंग नहीं मिट्टी-सड़े अंडों से मनाई जाती है होली
6/6
सोंगक्रन, थाईलैंड
थाईलैंड का यह पर्व 13 से 15 अप्रैल तक मनाया जाता है. जो वसंत के आने का प्रतीक है। इसका मतलब परिवर्तन होता है। इसे आप थाई न्यू ईयर भी कह सकते हैं. इस त्योहार में लोग सड़कों पर जा रहे राहगीरों पर पानी डालकर होली जैसी अनूठी परंपरा निभाते हैं. खास बात यह है कि इस दिन के लिए लोग सड़कों पर पानी के ड्रम भरकर रख देते हैं.

Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay