एडवांस्ड सर्च

सुप्रीम कोर्ट ने दया याचिकाओं के विवरण मांगे

सर्वोच्च न्यायालय ने मंगलवार को सरकार को निर्देश दिए कि मृत्युदंड का सामना कर रहे दोषियों की राष्ट्रपति के यहां लम्बित दया याचिकाओं के विवरण पेश किए जाएं.

Advertisement
aajtak.in
आईएएनएसनई दिल्ली, 16 November 2011
सुप्रीम कोर्ट ने दया याचिकाओं के विवरण मांगे सर्वोच्च न्यायालय

सर्वोच्च न्यायालय ने मंगलवार को सरकार को निर्देश दिए कि मृत्युदंड का सामना कर रहे दोषियों की राष्ट्रपति के यहां लम्बित दया याचिकाओं के विवरण पेश किए जाएं.

सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति जी.एस. सिंघवी और न्यायमूर्ति एस.जे. मुखोपाध्याय की पीठ ने कहा कि राष्ट्रपति प्रतिभा पाटील के यहां वर्षो से लम्बित सभी 17 दया याचिकाओं का परीक्षण किया जाएगा. दया याचिकाओं में मृत्युदंड को आजीवन कारावास में बदलने की याचना की गई है.

न्यायालय ने कहा, 'मुद्दे के महत्व को और इस सच्चाई को ध्यान में रखते हुए कि तमाम लोग न्यायालय जाने की स्थिति में नहीं है, जैसा कि याचिकाकर्ता (देवेंद्र पाल सिंह भुल्लर) द्वारा इस मामले में कहा गया है, हमने वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी और टी.आर. अंघ्यारुजिना से न्यायालय की मदद करने का अनुरोध किया है और उन्होंने अनुरोध स्वीकार कर लिया है.'

दया याचिकाओं पर निर्णय लेने में हुए भारी विलम्ब पर सुनवाई का दायरा बढ़ाने सम्बंधी न्यायालय का यह आदेश भुल्लर द्वारा दायर एक याचिका की सुनवाई के दौरान दिया गया. भुल्लर ने राष्ट्रपति द्वारा आठ वर्षो बाद अपनी दया याचिका खारिज किए जाने को सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती दी है. भुल्लर को दिल्ली में 1993 में हुए एक बम विस्फोट के लिए मौत की सजा सुनाई गई थी. विस्फोट में नौ व्यक्ति मारे गए थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay