एडवांस्ड सर्च

नक्सल: प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से मिलेंगे पीएम

हाल के दिनों में नक्सल हिंसा की घटनाओं में आयी तेजी के बीच प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह बुधवार को नक्सल प्रभावित सात राज्यों के मुख्यमंत्रियों और प्रतिनिधियों के साथ बैठक करेंगे.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 13 July 2010
नक्सल: प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से मिलेंगे पीएम

हाल के दिनों में नक्सल हिंसा की घटनाओं में आयी तेजी के बीच प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह बुधवार को नक्सल प्रभावित सात राज्यों के मुख्यमंत्रियों और प्रतिनिधियों के साथ बैठक करेंगे.

सरकारी सूत्रों ने बताया कि प्रधानमंत्री निवास पर सुबह शुरू होने वाली इस बैठक में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री के रोसैया, उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण के अलावा झारखंड के राज्यपाल मोहम्मद हसन फारूक के शिरकत करने की संभावना है.

झारखंड में इस समय राष्ट्रपति शासन है. सूत्रों के मुताबिक पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य इस बैठक में शामिल नहीं हो रहे हैं. उनकी जगह संभवत: राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बैठक में हिस्सा लेंगे. बैठक में केन्द्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम भी मौजूद होंगे. सूत्रों ने बताया कि बैठक में हाल के माओवादी हमलों से उत्पन्न स्थिति का जायजा लिया जाएगा और भाकपा माओवादी से निपटने की नयी रणनीति पर विचार किये जाने की उम्मीद है.

सूत्रों ने बताया कि नक्सल विरोधी अभियान में लगे अर्धसैनिक बलों की पुन: तैनाती और योजना आयोग द्वारा सुझायी गयी विकास योजनाओं के बारे में बैठक में चर्चा किये जाने की संभावना है. गृह मंत्री चिदंबरम मुख्यमंत्रियों को नक्सलियों से निपटने के लिए केन्द्र की योजना के बारे में बताएंगे और उसके बारे में उनसे सुझाव मांगेंगे. नक्सल समस्या को देश की आंतरिक सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा बता चुके मनमोहन मुख्यमंत्रियों से बातचीत कर इस समस्या पर उनका नजरिया जानेंगे.

यह बैठक हाल ही में नक्सल हिंसा की घटनाओं में बढ़ोतरी के बीच हो रही है. नक्सलियों ने अप्रैल से अब तक छत्तीसगढ में कम से कम 100 सुरक्षा जवानों की हत्या कर दी है. उन्होंने पश्चिम बंगाल में रेल पटरी बम से उडा दी थी, जिससे एक एक्सप्रेस ट्रेन दुर्घटना हो गयी. इसमें लगभग 150 लोग मारे गये थे. सरकार अपनी नक्सल रोधी नीति के तहत समन्वित पुलिस कार्रवाई और विकास कार्यों’ में तेजी की दोस्तरीय नीति पर काम कर रही है.

चिदंबरम ने कहा है कि दोनों ही मोर्चों’ पर प्रारंभिक जिम्मेदारी राज्य सरकारों की है हालांकि केन्द्र इस काम में उनकी मदद करेगा. आंकडों के मुताबिक नक्सल प्रभावित राज्यों में लगभग 40 हजार वर्ग किलोमीटर इलाका नक्सलियों के कब्जे में है. पिछले पांच साल में नक्सल हिंसा में 10 हजार आम लोग और सुरक्षाकर्मी मारे गये. 2005 से मई 2010 के बीच नक्सल हमले में 10,268 लोग मारे गये, जिनमें से 2372 मौतें अकेले 2009 में हुइ’ जबकि 2008 में 1769 और 2007 में 1737 लोग मारे गये.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay