एडवांस्ड सर्च

कई नए चेहरों पर भी टिकी होंगी निगाहें

महाराष्ट्र में जहां इस बार दिग्गजों के साथ मैदान में कई नए युवा चेहरे हैं तो वहीं हरियाणा में भी कई ऐसे उम्मीदवार हैं जिन पर सबकी नजरे टिकीं हैं.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
आज तक ब्यूरोनई दिल्‍ली, 22 October 2009
कई नए चेहरों पर भी टिकी होंगी निगाहें

पिछली बार की तरह इस बार भी महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव में कई वीआईपी उम्मीदवारों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है. महाराष्ट्र में जहां इस बार दिग्गजों के साथ मैदान में कई नए युवा चेहरे हैं तो वहीं हरियाणा में भी कई ऐसे उम्मीदवार हैं जिन पर सबकी नजरे टिकीं हैं.

विनोद कांबली के भी भाग्‍य का होगा फैसला
इस बार महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में जिन वीआईपी नेताओं के भाग्य का फैसला होना है उनमें पुराने दिग्गजों के साथ कई नए चेहरे भी शामिल हैं. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण, एनसीपी नेता और राज्य के उप मुख्यमंत्री छगन भुजबल, मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष कृपा शंकर सिंह, शिव सेना के रामदास कदम, कांग्रेस के नारायण राणे और जयंत पाटील इन सभी दिग्गजों की किस्मत आज दांव पर लगी है. इन पुराने महारथियों के साथ इस बार मैदान में कई नए चेहरे भी हैं. प्रमोद महाजन की बेटी पूनम महाजन, विलासराव देशमुख के बेटे अमित राव देशमुख, राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल के पुत्र राजेंद्र शेखावत, केंद्रीय मंत्री सुशील कुमार शिंदे की बेटी प्रणीति शिंदे और पूर्व क्रिकेटर विनोद कांबली.

युवराज सिंह के पिता भी हैं मैदान में
महाराष्ट्र की तरह हरियाणा में भी कई वीआईपी उम्मीदवारों की किस्मत दांव पर लगी है. वहां आज जिन दिग्गजों की साख दांव पर लगी हैं वो हैं हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला और उनके बेटे अजय सिंह चौटाला, भजन लाल के बेटे कुलदीप विश्नोई और क्रिकेटर युवराज सिंह के पिता योगराज सिंह. बस ये देखना दिलचस्प होगा कि इनमें से किसके माथे बंधेगा जीत का सेहरा और किसे मिलेगी मात.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay