एडवांस्ड सर्च

कांग्रेस के लिए मुश्किल होगा मुख्यमंत्री का चयन

महाराष्ट्र विधानसभा का चुनाव परिणाम आने के बाद अगर कांग्रेस नीत डेमोक्रेटिक फ्रंट लगातार तीसरी बार सत्ता में वापस आयी तो पार्टी हाईकमान को प्रदेश का अगला मुख्यमंत्री का चयन करने में कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है.

Advertisement
भाषानई दिल्‍ली, 18 October 2009
कांग्रेस के लिए मुश्किल होगा मुख्यमंत्री का चयन

महाराष्ट्र विधानसभा का चुनाव परिणाम आने के बाद अगर कांग्रेस नीत डेमोक्रेटिक फ्रंट लगातार तीसरी बार सत्ता में वापस आयी तो पार्टी हाईकमान को प्रदेश का अगला मुख्यमंत्री का चयन करने में कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है.

नवनिर्वाचित विधायकों की इच्‍छा महत्‍वपूर्ण
इस आशय का संकेत उस समय मिला जब रविवार को पार्टी के एक वरिष्ठ नेता तथा राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री ने अपना नाम नहीं जाहिर करने की शर्त पर कहा कि इस मुद्दे पर कोई भी निर्णय करने के दौरान नवनिर्वाचित विधायकों की इच्छा का सम्मान किया जाना चाहिए. पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा ‘‘यह सब बात चुनाव परिणाम के बाद उत्पन्न स्थितियों पर निर्भर करता है लेकिन नवनिर्वाचित विधायकों की इच्छा को तवज्जो दी जानी चाहिए.’’

मुख्‍यमंत्री पद के कई उम्‍मीदवार
महाराष्ट्र में कांग्रेस पार्टी से मुख्यमंत्री पद के कई उम्मीदवारों के नाम सामने आ रहे हैं. दूसरी ओर सहयोगी राकांपा का कहना है कि इस विषय पर कांग्रेस हाईकमान को निर्णय करना है और इस पद के लिए जिसका चयन होगा पार्टी उसका समर्थन करेगी. इस मामले में वास्तविक तस्वीर तभी उभरेगी जब 22 अक्‍टूबर की दोपहर में चुनाव परिणाम सामने आ जायेंगे. अधिकांश सर्वेक्षणों में महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में कांग्रेस-राकांपा गठबंधन के सत्ता में दोबारा वापस लौटने की भविष्यवाणी की गई है, हालांकि विपक्षी भाजपा-शिवसेना गठबंधन इससे सहमत नहीं है.

कुर्सी नहीं छोड़ना चाहते अशोक चव्‍हाण
बहरहाल, पिछले 10 महीने से सत्ता संभालने वाले वर्तमान मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने स्पष्ट किया है कि वह चुनाव परिणाम के बाद अगली सरकार का नेतृत्व करने के आकांक्षी हैं. चव्हाण 13 अक्‍टूबर को चुनाव सम्पन्न होने के बाद दिल्ली आए और उन्होंने पार्टी के केंद्रीय नेताओं से बातचीत की. उनके पूर्ववर्ती और केंद्रीय मंत्री विलासराव देशमुख हालांकि यह कह रहे हैं कि वह केंद्र में खुश है, इसी प्रकार की बात एक अन्य केंद्रीय मंत्री सुशील कुमार शिंदे की ओर से सामने आ रही है. वरिष्ठ नेता होने के मद्देनजर देशमुख और शिंदे को चुनाव में महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गई थी. देशमुख ने जहां पार्टी के चुनाव प्रबंध समिति का नेतृत्व किया था, वहीं शिंदे ने चुनाव अभियान समिति का नेतृत्व किया था. लेकिन सार्वजनिक रूप से इस तरह की कोई बात नहीं कहने के बावजूद पार्टी हलकों में इनके मुख्यमंत्री पद के दौड़ में होने की बात कही जा रही है. इस संबंध में केंद्रीय मंत्री पृथ्वीराज चव्हाण छिपे रुस्तम साबित हो सकते हैं. जबकि शिवसेना से कांग्रेस में शामिल हुए प्रदेश के मंत्री नारायण राणे ने भी इस प्रमुख पद के लिए अपनी इच्छा नहीं छोड़ी है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay