एडवांस्ड सर्च

संथानम का दावा बिल्‍कुल झूठा: चव्हाण

प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने शुक्रवार को कहा कि डीआरडीओ के पूर्व वैज्ञानिक के संथानम द्वारा पोखरण-2 परमाणु परीक्षण के बारे में किया गया दावा पूरी तरह गलत है.

Advertisement
aajtak.in
आदित्य बिड़वई नई दिल्‍ली, 28 August 2009
संथानम का दावा बिल्‍कुल झूठा: चव्हाण

प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने शुक्रवार को कहा कि रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के एक पूर्व वैज्ञानिक द्वारा पोखरण-2 परमाणु परीक्षण के बारे में दिया गया विवादास्पद बयान देश की वैज्ञानिक एवं तकनीकी क्षेत्र की उपलब्धियों को कम करके आंकने का प्रयास है.

वर्ष 1998 में हुए पोखरण-2 परीक्षण से जुडे वरिष्ठ वैज्ञानिक के संथानम ने यह कह कर विवाद पैदा कर दिया है कि पोखरण दो परमाणु परीक्षण के वांछित परिणाम नहीं मिले थे. चव्हाण ने कहा ‘‘यह दावा पूरी तरह गलत है. यह देश की वैज्ञानिक एवं तकनीकी उपलब्धियों को कम करके आंकने का प्रयास है.’’ उन्होंने कहा कि सरकार और देश के वैज्ञानिक पहले ही संथानम के दावे को खारिज कर चुके हैं. ऐसे में इस पर और कोई प्रतिक्रिया व्यक्त करने की जरूरत नहीं है.

परीक्षण के समय डीआरडीओ के प्रमुख रहे पूर्व राष्ट्रपति ए पी जे अब्दुल कलाम गुरुवार को ही कह चुके हैं कि वह परीक्षण पूरी तरह सफल रहा था और उसके सभी वांछित परिणाम मिले हैं. केन्द्र सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार और वर्ष 1998 में परमाणु उर्जा आयोग के अध्यक्ष रहे आर चिदम्बरम ने भी संथानम के दावे को गलत बताते हुए कहा है कि पोखरण दो परमाणु परीक्षण के परिणाम को लेकर कोई विवाद ही नहीं है. वाजपेयी सरकार में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रहे ब्रजेश मिश्र ने भी संथानम के दावे को गलत बताया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay