एडवांस्ड सर्च

छेड़खानी के आरोप में मेजर जनरल बर्खास्‍त

भारतीय इतिहास में पहली बार सेना के किसी मेजर जनरल को महिला सहयोगी से छेड़छाड़ के आरोप में बर्खास्‍त किया गया है. सेना के एक कोर्ट ने मेजर जनरल को दोषी पाने पर बर्खास्‍त कर दिया.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.inनई दिल्‍ली, 15 September 2008
छेड़खानी के आरोप में मेजर जनरल बर्खास्‍त

भारतीय इतिहास में पहली बार सेना के किसी मेजर जनरल को महिला सहयोगी से छेड़छाड़ के आरोप में बर्खास्‍त किया गया है. सेना के एक कोर्ट ने मेजर जनरल को दोषी पाने पर बर्खास्‍त कर दिया.

सेना के 10 कोर्पस कमांडर लेफिटेनेंट जनरल आर एस सुजलाना की अध्‍यक्षता में मेजर जनरल ए के लाल को आम कोर्ट मार्शल के दौरान यह सजा सुनाई. लाल पिछले साल तक लेह में 3 इंफैट्री में जनरल आफिसर कमाडिंग के पद पर थे. पिछले साल सितंबर में लाल पर महिला अधिकारी कैप्‍टन नेहा रावत ने छेड़खानी करने का आरोप लगाया था. कैप्टन रावत ने आरोप लगाया था कि लाल ने साधना कक्षा के लिए उन्हे लेह स्थित अपने आवास पर बुलाया था, जहां उनके साथ छेड़खानी करने का प्रयास किया था.

सेना प्रमुख ने कहा कि अगर यह फैसला उच्‍च पदाधिकारियों के समक्ष साबित हो गया तो लाल को अपने पेंशन और रिटायर बाद मिलने वाली सुविधाओं से भी हाथ धोना पड़ सकता है.

मार्शल कोर्ट में लाल के खिलाफ आईपीसी की धारा 354 धेड़छाड़ करने का आरोप सहित चार अन्‍य धाराओं पर आरोप लगाए गए हैं. साथ ही अपने दो अन्‍य सहयोगियों को इसमें अपने पद के रसूख का इस्‍तेमाल करने का आरोप भी है. मेजर जनरल लाल ने अपने उपर लगे सभी आरोपों को कोर्ट के समक्ष बेबुनियाद बताया है. लाल अब अपने बचाव के लिए मार्शल कोर्ट के समक्ष अपील करेंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay