एडवांस्ड सर्च

Advertisement

वारदात: क्या देश में बलात्कार का कानून कमज़ोर है?

शम्स ताहिर खान [Edited By: हर्षि‍ता पाण्डेय]नई दिल्ली, 14 May 2019

क्या बलात्कार को लेकर हमारे देश का कानून कमजोर है? क्या बलात्कारियों को कड़ी सज़ा नहीं मिलती? निर्भया से लेकर आजतक जब भी बलात्कार का कोई मामला सामने आता है तो हमेशा कमज़ोर कानून और कम सजा की दुहाई दी जाती है.  हालांकि सच्चाई ये है कि बलात्कार के मामले में भी सज़ा-ए-मौत का प्रावधान है.  दरअसल सच्चाई ये है कि कानून तो कड़े हैं मगर सज़ा दिलाने में वक्त लग जाता है.  निर्भया के गुनहगारों को ही ले लीजिए.  आज भी फांसी का फंदा उनके गले तक नहीं पहुंचा है.  शायद यही वजह है कि अब देश में पहली बार बलात्कारियों के लिए शरिया जैसे कानून की मांग उठाई गई है और ये मांग कश्मीर से आई है.   

Is the law for rape in our country is weak? Do we not award strong punishment to the culprit of rape in the country? Since the Nirabhaya case till now, whenever any case of rape comes in light we always talk about weak law and orders in the country. Though, the truth is that there is provision of death sentence in the rape case. Actually, in the country, the law and order in the country is strong, but it takes time. But, now the voice for Sharia law against rapists has been raised from Kashmir. Watch video.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay