एडवांस्ड सर्च

Advertisement

वारदात: जलियांवाला बाग में 100 साल पहले जब चली थीं हजारों गोलियां

शम्स ताहिर खान [Edited By: सना जैदी]नई दिल्ली, 13 April 2019

सौ साल पहले 13 अप्रैल 1919 की बात है, उस दिन बैसाखी थी. एक बाग में करीब 15 से बीस हज़ार हिंदुस्तानी इकट्ठा थे. सब बेहद शांति के साथ सभा कर रहे थे. ये सभा पंजाब के दो लोकप्रिय नेताओं की गिरफ्तारी और रोलेट एक्ट के विरोध में रखी गई थी. पर इससे दो दिन पहले अमृतसर और पंजाब में ऐसा कुछ हुआ था जिससे ब्रिटिश सरकार गुस्से में थी. इसी गुस्से में ब्रिटिश सरकार ने अपने जल्लाद अफसर जनरल डायर को अमृतसर भेज दिया. जनरल डायर 90 सैनिकों को लेकर शाम करीब चार बजे जलियांवाला बाग पहुंचा और इसके बाद जो कुछ होता है वो ब्रिटिश हुकूमत में उससे पहले कभी नहीं हुआ था. देखिए जलियांवाला बाग कांड की कहानी.


The 100th anniversary of the killing of hundreds of unarmed, innocent Indians, including women and children, who were protesting peacefully against the Rowlatt Act of the British government, by British Indian forces led by Brigadier General Reginald Dyer. British Prime Minister Theresa May described the Jallianwala Bagh Massacre on April 13, 1919 as a shameful scar on the British Indian history. For more details watch this report.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay