एडवांस्ड सर्च

Advertisement

वारदात: निर्भया के दोषियों की आखिरी रात की पूरी कहानी

वारदात: निर्भया के दोषियों की आखिरी रात की पूरी कहानी
aajtak.inनई दिल्ली, 21 March 2020

वक्त तेजी से भाग रहा था. तिहाड़ में फांसी की तैयारी जोरो-शोर से जारी थी. फांसी के लिए अब सिर्फ तीन घंटे बचे थे. तभी अचानक सुप्रीम कोर्ट से खबर आती है कि वो रात ढाई बजे फांसी रोकने या ना रोकने के मामले में सुनावई करेगा. आनन-फानन में ढाई बजे सुप्रीम कोर्ट की बत्तियां जला दी जाती हैं. उधर तिहाड़ में मुकेश, पवन, विनय और अक्ष्य की घबराहट हर गुजरते पल के साथ बढ़ती ही जा रही थी. फांसी में अब सिर्फ दो घंटे बचे थे, पर फांसी को लेकर तस्वीर अब भी साफ नहीं थी. अब रात के साढ़े तीन बज चुके थे. वारदात में देखिए निर्भया के दोषियों की फांसी की पूरी कहानी.

On Friday, India woke up unusually early to witness the end of seven and half-year-old battle and counted down at 05:29:50 AM outside Tihar jail as four rapists were hanged to death at exactly 5:30 AM. It was a rare moment in history as thousands gathered outside Tihar jail, despite the coronavirus pandemic, to witness justice being delivered to Nirbahaya with the hanging of her four rapists. Watch the whole story of last night.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay