एडवांस्ड सर्च

Advertisement

वंदे मातरम्: रेगिस्तान में ऐसे सरहद की हिफाजत करते हैं BSF के जवान

श्वेता सिंह [Edited By: राम कृष्ण]नई दिल्ली, 04 November 2018

जब पारा 50 डिग्री पार कर जाता है, जिस्म का पसीना बहने की बजाय भाप बनकर उड़ने लगता है, जब रेगिस्तान में अंधड़ गोली की रफ्तार को पछाड़ देते हैं और जब मीलों फैले रेत के पहाड़ आग की चट्टानों में बदल जाते हैं, तब भी निगहबानी का संकल्प लिए मां भारती के लाल सरहद पर डटे रहते हैं. बीएसएफ के जवान रेगिस्तानी सीमाओं से लेकर बर्फीली सरहदों तक में कठिन ड्यूटी निभाते हैं. रेगिस्तान में रेत की स्थिति बदलने से चुनौती बढ़ जाती है, लेकिन बीएसएफ के जवान अपनी ड्यूटी से पीछे नहीं हटते हैं. वंदे मातरम् के इस वीडियो में देखिए कि बीएसएफ के जवान कैसे रेगिस्तानी जमीन पर रहते हैं और हिंदुस्तान की सुरक्षा करते हैं?

The Border Security Force (BSF) guards the 270 km-long India-Pakistan border in western Rajasthan. The BSF soldiers are required to give it their all irrespective of desert or snowy borders. BSF personnel face hard challenges in the desert areas but they perform their duties in every situation. The BSF is the world's largest border guarding force. See how BSF jawans protect the border in desert areas here.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay