एडवांस्ड सर्च

Advertisement

संजय सिन्हा की कहानी: सुनिए मां की कहानी, परी की कहानी

तेज ब्यूरो [Edited by: विशाल कसौधन] 09 January 2019

संजय सिन्हा की कहानी में आपके लिए है एक खास कहानी. कहानी का नाम है फिर कह एक कहानी. कल भोपाल के एक रेस्त्रां में हम लोग खाना खाने गए थे. सभी खाना खाने में व्यस्त थे, लेकिन आपके संजय सिन्हा का मन मां की कहानियों में खोया हुआ था. कभी जब मेरा मन खाना खाने को नहीं होता था, तब मां मुझे गोद में बैठाकर कहानी सुनाने लगती थी. सुनिए मेरी मां की कहानी. परी की कहानी

In the story of Sanjay Sinha, there is a special story for you. The story is called a story again. Yesterday, in a restaurant in Bhopal we went to eat food. All were busy eating food, but your Sanjay Sinha mind was lost in the stories of his mother. Sometimes when my mind was not to eat, then the mother sat me in lap and started telling the story. Listen my mother story. Fairy tale

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay