एडवांस्ड सर्च

Advertisement

संजय सिन्‍हा की कहानी: हंसी का जवाब

तेज ब्‍यूराे [Edited By: राहुल झारिया]नई दिल्‍ली, 12 June 2019

संजय सिन्‍हा जो आज लेकर आए है, उसका शीर्षक है- हंसी का जवाब. संजय सिन्हा का मानना है कि मन प्रधान हो सकता है, लेकिन समाज में आप हैं इसका प्रमाण तो आपका तन ही है. ज़िंदगी को अपनी नाखुशी के लिए दोष मत दीजिए. या तो जो है, उसे स्वीकार कीजिए और खुश रहिए या फिर जो कामना है उसे पाने की कोशिश कीजिए और खुश रहिए. क्या कहना चाहते हैं संजय सिन्हा, जानने के लिए देखें ये वीडियो.

The title of the story of Sanjay Sinha for today is- Hansi Ka Jawab. Actually Sanjay Sinha strongly believes that mind is important than your Body. But body is a prove of your existence in society. No body should blame life for unhappiness. Exactly what he wants to say, and what is special in this story, to know watch this video.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay