एडवांस्ड सर्च

Advertisement

संजय सिन्हा की कहानी: दवा से आगे

तेज ब्यूरो [Edited By: अजय भारतीय] 19 April 2019

आपने दवा की फैक्ट्री देखी हो, वहां बहुत सी मशीन लगी होती हैं और कई तरह के रासायन होते हैं. मशीन और उन रासायनों से गोल-गोल और लंबी लंबी रंगीन दवाएं बनती हैं. सफेद भी होती हैं. दवा मीठी भी हो सकती है और कड़वी भी. दवा का काम होता है शरीर के भीतर जाकर उसे पीड़ा मुक्त करना. मेरी मां जब बीमार पड़ गई थी तो सारा दिन दर्द से कराहती थी... पूरी कहानी सुनने के लिए वीडियो देखें.

You have seen the drug factory, there are many machines and many types of chemicals are there. The machine and those chemicals made rounded and long colored medicines. These medicines are also white in colour. Drug can be sweet and bitter too. The work of medicine is to go inside the body and make relief from suffer pain. When my mother fell ill, she moaned whole day.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay