एडवांस्ड सर्च

Advertisement

संजय सिन्हा की कहानी: बोलो... बोलो.... कुछ तो बोलो

तेज ब्यूरो [Edited By: अजय भारतीय] 12 May 2019

संजय सिन्हा की कहानी का शीर्षक- ‘बोलो... बोलो.... कुछ तो बोलो’. मेरी मां सुबह सबसे पहले जागती थीं फिर पिता जी और अंत में जागता था. जब कभी दादी हमारे साथ रहतीं तो वो भी मां के साथ ही उठ जाती थीं. दादी के जो तीन बेटे थे वो अपनी मां से बहुत प्यार करते थे. तो दादी कभी अपने मझले बेटे के साथ होतीं तो कभी अपने बड़े और छोटे बेटे के पास. ताऊजी दादी को माताराम कहकर पुकारते थे और पिता जी दादी को माई कहते थे. पूरी कहानी के लिए वीडियो देखें.

Sanjay Sinha Ki Kahani- Bolo, Bolo, Kuch To Bolo. My mother woke up early in the morning, then father and finally i woke up. Whenever grandmother lived with us, she also got up with my mother. The three son of the grandmother, they used to love their mother a lot. So grandmother would ever have been lived with her middle son, and sometimes with her big and small son. Tauji used to call her grandmother- Mataram and my father as Mai. Watch the video for the full story.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay