एडवांस्ड सर्च

Advertisement

बापू के दिखाए सत्‍य-अहिंसा के मार्ग को क्‍यों भूल गए हम

आज तक ब्‍यूरोनई दिल्‍ली, 23 February 2014

जब कोई और रास्‍ता न हो तो केवल सत्‍य का रास्‍ता बचता है. गांधी जी के इस कथन को शायद आज की पीढ़ी ने पढ़ा ही नहीं या फिर उसे याद नहीं रखना चाहती. उन्‍होंने हमेशा सत्‍य और अहिंसा का मार्ग दिखाया है, लेकिन आज जिस तरह से लोग अपने छोटे-छोटे फायदे के लिए हिंसा और असत्‍य का मार्ग चुनते हैं उससे बापू को जरूर कष्‍ट होता होगा.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay