एडवांस्ड सर्च

Advertisement

PCR: दर्द-ए-चालान! जुर्माने से बचने के लिए कैसे-कैसे जतन!

दिल्ली आजतकनई दिल्ली, 11 September 2019

जेब जब ढीली होती है तो अच्छे-अच्छों को लाइन पे ले आती है. वर्ना सोचिए. वही सड़कें, वही गाड़ियां, वही लाल बत्ती, वही हेल्मेट वही सेट बेल्ट वही ट्रैफिक के नियम. पर जरा सा नोटों का रंग और साइज क्या बदला सब कुछ बदल गया. सड़कों पर खौफ पसर गया. लोग अपनी-अपनी गाड़ियों के आरसी, लाइसेंस, इंश्योरेंस और पॉल्यूशन सर्टिफिकेट ढूंढने लगे. लाल बत्ती को निहार-निहार कर उसके हरी होने का इंतजार मुस्कुरा कर करने लगे. मगर हां, कई जगहों पर दर्द-ए-चालान ऐसा छलका कि उसकी हर झलक झलकियां बन गईं. देखें पीसीआर.

The Motor Vehicles (Amendment) Act, 2019, come into effect from September 1. As today on September 11, 10 days after the act was implemented, we spoke to several people in Delhi NCR about their experience over the same. Did the new traffic rules bring any change in their life or did they become more disciplined about the rules and regulations. Here is what they have to say about it. Also, protests erupted in parts of Delhi over exorbitant traffic fines with people torching motorbikes. Watch PCR to know how new traffic rules changed people and how they suffered.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay