एडवांस्ड सर्च

Advertisement

क्रांतिकारी: सवर्ण आरक्षण पर संसद में फाइनल बहस

निशांत चतुर्वेदी [Edited By अमित रायकवार]नई दिल्ली, 09 January 2019

समाजवादी पार्टी और कांग्रेस ने बिल के समर्थन का ऐलान कर दिया है तो AIADMK ने विरोध का झंडा थाम लिया है.  बिल पर बहस को लेकर आठ घंटे बहस का वक्त तय किया जा चुका है और सियासी चुनावी मजबूरी के चलते विपक्ष इस बिल का समर्थन कर रहा है.  हालांकि सदन का सत्र बढ़ाने को लेकर सुबह से विरोध के नारे भी गूंज रहे हैं.  समर्थन करने वालों दलों ने .ये सवाल भी उठाए है कि नौकरियां है नहीं तो आरक्षण का क्या मतलब और ठीक चुनाव से पहले आरक्षण क्यों, याद आया.

The Congress party and the Samajwadi party have supported the reservation bill but AIADMK has rejected to support the reservation bill. 8 hours of time has been given to debate over the reservation bill. The opposition is supporting the bill because of their political agenda. The opposition parties who are supporting the bill has raised this question that when we do not have enough jobs then what is the use of having reservations? Apart from this, they have also asked that, why prior to elections, the government is talking about reservations?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay