एडवांस्ड सर्च

Advertisement

खबरदार: क्या BJP 2014 का चुनावी एजेंडा 2019 में भी दोहराएगी?

aajtak.in [Edited By: हर्षि‍ता पाण्डेय]नई दिल्ली, 06 January 2019

क्या भ्रष्टाचार का मुद्दा मिशन 2019 का भी चुनावी एजेंडा बनने वाला है? ख़बरदार में आज हम विश्लेषण की शुरुआत इसी सवाल के साथ करेंगे, क्योंकि पिछले 24 घंटे की पॉलिटिक्स से तो यही समझ में आ रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2014 के चुनावी एजेंडे को 2019 में भी रिपीट करना चाहते हैं. भले ही राफेल को लेकर राहुल गांधी लगातार उन्हें घेरने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन अब ऐसा लग रहा है कि भ्रष्टाचार के मुद्दे पर नरेंद्र मोदी सिर्फ पलटवार ही नहीं बल्कि इसे चुनाव तक भी ले जाना चाहते हैं. क्रिश्चियन मिशेल की बात हो या फिर रॉबर्ट वाड्रा के करीबियों के खिलाफ जांच हों, टीम मोदी हर मुमकिन रास्तों से कांग्रेस को फिर उसी मुद्दे पर घेरने में जुटी है जो नरेंद्र मोदी को 2014 की जीत दिलवाने में एक बड़ा फैक्टर रहा था. भ्रष्टाचार के इस चुनावी एजेंडे में नया मामला यूपी का जुड़ा गया है, जहां अखिलेश सरकार के दौरान खनन मामले को सीबीआई ने खोला, जिसकी टाइमिंग के बारे में विरोधी ये कह रहे हैं कि गठबंधन के पीछे सीबीआई लगा दी गई है.

Is corruption, once again, going to become an agenda in 2019 elections? Today, in Khabardar we will start our analysis with the same question, because if we look at the politics of past 24 hours then it is visible that PM Modi will, once again, bring corruption as an election agenda just like he did in the year 2014. Be it Christian Michell or be it about raiding close aides of Robert Vadra, team of PM Modi is trying to attack the Congress party on the same issues, which they have used in the year 2014. Case of illegal mining during the Akhilesh government is the fresh case which has joined the corruption agenda.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay